शतक बनाने के बाद भी इस भारतीय खिलाड़ी को कर दिया गया था प्लेइंग इलेवन से बाहर 1
NOTTINGHAM, ENGLAND - AUGUST 30: The Indian team wait for a review decision for the wicket of Joe Root during the third Royal London One-Day Series match between England and India at Trent Bridge on August 30, 2014 in Nottingham, England. (Photo by Michael Steele/Getty Images)

भारतीय टीम के वनडे क्रिकेट इतिहास में एक खिलाड़ी ऐसा भी हैं. जिसे शतक बनाने के बावजूद भारतीय टीम की प्लेइंग इलेवन से बाहर कर दिया गया था. आज हम आपकों अपने इस खास लेख में भारतीय टीम के उस खिलाड़ी के बारे में ही बताने वाले हैं.

मनोज तिवारी को शतक बनाने के बावजूद किया गया था बाहर 

शतक बनाने के बाद भी इस भारतीय खिलाड़ी को कर दिया गया था प्लेइंग इलेवन से बाहर 2

बता दें, कि मनोज तिवारी ही वह खिलाड़ी हैं. जिन्हें शतक लगाने के बावजूद भारतीय टीम से बाहर कर दिया गया था. मनोज तिवारी ने साल 2011 की भारत और वेस्टइंडीज की पांच मैचों की वनडे सीरीज के पांचवे वनडे मैच में एक शानदार शतक लगाया था.

उन्होंने चेन्नई के चैपक क्रिकेट स्टेडियम में भारतीय टीम के लिए 11 दिसंबर 2011 को वेस्टइंडीज के खिलाफ 126 गेंदों में 104 रन का नाबाद शतक लगाया था, लेकिन उनके इस शतक के बावजूद उन्हें बाहर कर दिया गया था.

शतक बनाने के बाद 14 वनडे मैचों की प्लेइंग इलेवन से थे बाहर 

शतक बनाने के बाद भी इस भारतीय खिलाड़ी को कर दिया गया था प्लेइंग इलेवन से बाहर 3

बता दें, कि 11 दिसंबर 2011 को वेस्टइंडीज के खिलाफ शतक बनाने के बाद वह कुल 14 वनडे मैचों तक भारतीय टीम के साथ थे, लेकिन एक भी मैच में उन्हें प्लेइंग इलेवन में मौका नहीं मिला था.

शतक बनाने के बाद भी इस भारतीय खिलाड़ी को कर दिया गया था प्लेइंग इलेवन से बाहर 4

वह ऑस्ट्रेलिया में खेली गई भारत, श्रीलंका और ऑस्ट्रेलिया की ट्राई सीरीज में भी टीम में शामिल थे. वहीं एशिया कप 2012 में भी उन्हें जगह मिली थी. वहीं श्रीलंका के खिलाफ साल 2012 में हुई वनडे सीरीज के दौरान भी वह भारत की 15 सदस्यी टीम में शामिल थे, लेकिन इस दौरान भारत ने कुल 14 वनडे मैच खेले थे, लेकिन उन्हें एक भी वनडे मैच की प्लेइंग इलेवन में जगह नहीं दी गई.

पाकिस्तान के खिलाफ 15 सदस्यी टीम से ही कर दिए गये बाहर 

शतक बनाने के बाद भी इस भारतीय खिलाड़ी को कर दिया गया था प्लेइंग इलेवन से बाहर 5

बता दें, कि इसके बाद जब दिसंबर साल 2012 में पाकिस्तान की टीम भारत आई, तो मनोज तिवारी का चयन उस टीम में नहीं किया गया था. भारत और पाकिस्तान के बीच हुई तीन मैचों की इस वनडे सीरीज में भारत की टीम को पाकिस्तान के हाथों 2-1 से हार का सामना करना पड़ा था. वैसे इससे पहले हुए टी-20 विश्व कप 2012 की टीम में भी उनका नाम नहीं था.

हालाँकि, बाद में उन्होंने फिर कई बार भारतीय टीम में वापसी की, लेकिन कभी अपना स्थान नियमित रूप से भारतीय टीम में नहीं बना पाये. उन्होंने भारतीय टीम के लिए कुल 12 वनडे मैच खेले थे. जिसमे उन्होंने 26.09 की औसत से 287 रन बनाये थे. उन्होंने भारत के लिए 3 टी-20 मैच भी खेले. जिसमे उन्होंने 15 रन बनाये.

 

 

अगर आपकों हमारा आर्टिकल पसंद आया, तो प्लीज इसे लाइक करें. अपने दोस्तों तक ये खबर सबसे पहले पहुंचाने के लिए शेयर करें. साथ ही अगर आप कोई सुझाव देना चाहते हैं, तो प्लीज कमेंट करें. अगर आपने अब तक हमारा पेज लाइक नहीं किया हैं, तो कृपया अभी लाइक करें, जिससे लेटेस्ट अपडेट हम आपकों जल्दी पहुंचा सकें.

 

 

vineetarya

cricket is my first and last love, I know cricket only cricket, I love watching cricket because cricket is my passion and my passion is my work my favourite player Mike Hussey and Kl Rahul

Leave a comment