दक्षिण अफ्रीका

अमेरिका में हुए जॉर्ज फ्लॉयड की मौत के बाद रंगभेद नीति को लेकर विश्व भर में चर्चा शुरू हो गयी है. अब इससे क्रिकेट जगत भी अछूता नहीं नजर आ रहा है. दक्षिण अफ्रीका के 30 खिलाड़ियों ने इसके बारें में मिलकर आवाज उठाई थी. अब दक्षिण अफ्रीका टीम के पूर्व कप्तान फाफ डू प्लेसिस ने भी ‘ब्लैक लाइव मैटर’ अभियान को अपना समर्थन दिया है.

दक्षिण अफ्रीका के पूर्व कप्तान रंगभेद नीति पर बोले

दक्षिण अफ्रीका के पूर्व कप्तान फाफ डु प्लेसिस ने अब 'ब्लैक लाइव मैटर' अभियान का किया समर्थन 1

विश्व भर में इस समय रंगभेद नीति की जमकर आलोचना हो रही है. इंग्लैंड और वेस्टइंडीज के बीच खेले जा रहे टेस्ट मैच में भी इसका असर नजर आ रहा है. दक्षिण अफ्रीका के 30 पूर्व और मौजूदा खिलाड़ियों ने इसके खिलाफ आवाज उठाई है. जिसमें अब दक्षिण अफ्रीका टीम के पूर्व कप्तान फाफ डु प्लेसिस का नाम शामिल हो गया है. उन्होंने एक पोस्ट के जरिये ब्लैक लाइव मैटर पर लिखा है कि

” पिछले कुछ महीनों में मैंने यह महसूस हुआ है कि हमें अपनी लड़ाई को चुनना जरूरी हो गया है. हम अपने देश में इस तरह के अन्याय से घिरे हुए हैं. अब हमें तुरंत इनके खिलाफ साथ खड़े होने और उन्हें ठीक करने की जरूरत है. मैं चुप रहकर सभी की बातें सुन रहा था. मैं मानता हूं कि दक्षिण अफ्रीका भी रंगभेद के कारण बंटा हुआ है.”

जिम्मेदारी लेकर बोले अब फाफ डू प्लेसिस

दक्षिण अफ्रीका के पूर्व कप्तान फाफ डु प्लेसिस ने अब 'ब्लैक लाइव मैटर' अभियान का किया समर्थन 2

लंबे समय तक दक्षिण अफ्रीका टीम की कप्तानी सँभालने वाले फाफ डू प्लेसिस ने अपने देश को भी इसमें शामिल करते हुए अपनी राय को रखा है. फाफ डू प्लेसिस ने इस बारें में कहा कि,

” यह मेरी व्यक्तिगत जिम्मेदारी भी है कि मैं अपने विचार, बातों और कामों से इस बदलाव में अपनी भूमिका भी निभाऊं. हम रंग देखकर खिलाड़ियों का सेलेक्शन नहीं करते हैं. यह एक मानव जाति की समस्या है. यदि हमारे शरीर के किसी एक हिस्से में चोट लगती है, तो हम रुक जाते हैं और असहज महसूस करते हैं. फिर हम यहां वहां देखने के बाद चोटिल हिस्से की ओर देखते हैं. फिर उसे ठीक करने की कोशिश करते हैं.”

स्थिति बदलना चाहते हैं अब दक्षिण अफ्रीका के पूर्व कप्तान

दक्षिण अफ्रीका के पूर्व कप्तान फाफ डु प्लेसिस ने अब 'ब्लैक लाइव मैटर' अभियान का किया समर्थन 3

कुछ समय पहले लुंगी एँगीडी ने इसके खिलाफ बोला तो बोएता डिपेनार, पैट सिमकॉक्स और रुडी स्टेन जैसे कुछ खिलाड़ियों ने उनकी आलोचना की थी. जिसके बाद 30 खिलाड़ियों ने लुंगी का समर्थन किया था. अब इस बारें में दक्षिण अफ्रीका के फाफ डु प्लेसिस ने कहा कि,

” यही कारण है कि मैं यह रहा हूं कि जब तक दुनिया अश्वेत लोगों को अहमियत नहीं देती, तब तक किसी की भी जिंदगी मायने नहीं रखती हैं. मैं यह बातें अभी इसलिए कह रहा हूं, क्योंकि यदि मैं सब कुछ ठीक होने का इंतजार करूंगा तो बहुत देर हो जाएगी.”