आज ही के दिन विश्व क्रिकेट को मिला था क्रिकेट का भगवान | Sportzwiki Hindi

Trending News

Blog Post

क्रिकेट

आज ही के दिन विश्व क्रिकेट को मिला था क्रिकेट का भगवान 

आज ही के दिन विश्व क्रिकेट को मिला था क्रिकेट का भगवान

विश्व क्रिकेट के इतिहास में कई अप्रत्याशित खिलाड़ी हुए हैं। जिन्होंने बड़े-बड़े कीर्तिमान गढ़े हैं। उनमें से भारतीय टीम के पूर्व कप्तान मोम्मद अजरुद्दीन भी शामिल हैं। इन्होंने 27 मार्च 1994 को एक ऐसा फैसला लिया था, जिससे विश्व क्रिकेट को एक हैरतअंगेज खिलाड़ी मिला और उस खिलाड़ी को दुनिया क्रिकेट के भगवान  के रूप में जानती है। युवराज सिंह ने बनाया एक ऐसा रिकॉर्ड जिसे शायद ही हासिल कर सकें भारतीय कप्तान विराट कोहली

आज से ठीक 23 साल पहले 27 मार्च 1994 को भारतीय टीम को एक ऐसा ओपनर मिला जिसे रन मशीन कहना गलत नहीं होगा। अजरुद्दीन ने सचिन को वनडे मैच में खेलने का मौका दिया। जिसे उन्होंने बखूबी निभाया, यह दिन था जब सचिन वनडे में पहली बार बल्लेबाजी करने क्रीज पर पहुंचे थे। उन्होंने खुद को चुनौतियों की हर कसौटी पर कसा और खुद को साबित किया।

रिकॉर्ड बुक के मुताबिक सचिन ने 15 नवंबर 1989 को पाकिस्तान के खिलाफ अंर्तराष्ट्रीय मैच में पदार्पण किया था। लेकिन उनके करियर में 27 मार्च 1994 को अहम मोड़ आया था। सचिन का असली अवतार देखने के लिए 69 मैचों तक इंतजार करना पड़ा था।

सचिन के लिए वो दिन भी बहुत खास रहा था जब नवजोत सिंह सिद्धू की जगह उन्हें ओपनिंग के लिए चुना गया था। 1994 में भारत न्यूजीलैंड दौर पर गई थी और भारत के नियमित ओपनर नवजोत सिंह सिद्धू अनफिट थे। उनकी गर्दन में दर्द था, जिसके कारण उन्हें ओपनिंग नहीं करने दिया गया और कप्तान अजहर ने सचिन को मौका दिया। हालांकि सचिन भी कई दिनों से ओपनिंग के इंतजार में थे, उन्होंने कई बार कप्तान मोहम्मद अजहरुद्दीन और मैनेजर अजीत वाडेकर से ओपनिंग करने की बात कही थी।  सौरव गांगुली और माइकल क्लार्क के अनुसार पुणे टेस्ट में टॉस ने निभाई अहम भूमिका

भारत के पूर्व कप्तान अजहर ने एक इंटरव्यू में कहा था, ”मेरे मन में पहले से ही था कि सचिन से ओपनिंग करवाऊं। क्योंकि पांचवें या छठे नंबर पर बल्लेबाजी करते हुए उसे 5 या 6 ओवर ही खेलने को मौका मिलता था। जो कि एक प्रतिभाशाली खिलाड़ी का सही इस्तेमाल नहीं था। इसी के बाद मैंने उससे ओपन करने को कहा।”

ओपनर के रूप में सचिन ने 344 मैचों में 48.29 की औसत से सर्वाधिक 15310 रन बनाए हैं। जबकि निचले क्रम पर उन्होंने 119 मैचों में 33 की औसत से 3116 रन बनाए हैं। इनके वनडे करियर के कुल 49 में से 45 शतक ओपनिंग करते हुए बने हैं। उनका वनडे का पहला शतक 79वें मैच में ओपनिंग करते हुए बना था।

Related posts