भारत और साउथ अफ्रीका दोनों को नजरअंदाज करने के बाद अब 2019 विश्वकप के लिए इस टीम के कोच बनना चाहते है गैरी कर्स्टन 1

साउथ अफ्रीका के पूर्व खिलाड़ी गैरी कर्स्टन ने अपनी कोच की भूमिका को लेकर कुछ बातें कही हैं. साथ ही वह अब कोच की भूमिका में बदलाव भी देख रहे हैं.

गैरी कर्स्टन उस समय भारतीय क्रिकेट टीम के कोच थे जब भारत ने 2011 में वर्ल्ड कप जीता था. जबकि इस समय वह आईपीएल में रॉयल्स चैलेंजर्स बैंगलोर के कोच हैं. पचास वर्षीय कर्स्टन अब सिर्फ सीमित ओवेरों के ही कोच बनना चाहते हैं.

भारत और साउथ अफ्रीका दोनों को नजरअंदाज करने के बाद अब 2019 विश्वकप के लिए इस टीम के कोच बनना चाहते है गैरी कर्स्टन 2

इस समय ऑस्ट्रेलिया को कोच की जरुरत है, क्योंकि साउथ अफ्रीका और ऑस्ट्रेलिया के बीच न्यूलैंड में खेले जा रहे टेस्ट मैच के दौरान हुई बाल टेम्परिंग के कारण उस समय के मौजूदा ऑस्ट्रेलिया के कोच डेरेन लेहमन को कोच के पड़ से हटना पड़ा था. जबकि दूसरी ओर इंग्लैंड के कोच ट्रेवर बेलिस अगले वर्ष अपना पड़ छोड़ने वाले हैं.

सीमित ओवेरों में स्पेशलिस्ट बनने की कोशिश

गैरी कर्स्टन ने कहा

”मैं कोशिश कर रहा हूं कि व्हाईट गेंद के फॉर्मेट में अपना कौशल बढ़ा सकूं. ये मेरे लिए अच्छा हो सकता है. मुझे लगता है कि अब जो राष्ट्रीय टीमों के कोच हैं वह सभी फॉर्मेट के कोच नहीं बनना चाहते हैं. क्योंकि यह सही नहीं है युवा खिलाड़ियों के साथ काम करने का.”

भारत और साउथ अफ्रीका दोनों को नजरअंदाज करने के बाद अब 2019 विश्वकप के लिए इस टीम के कोच बनना चाहते है गैरी कर्स्टन 3

इसके बाद जब कर्स्टन से इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया के कोच बनने के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा

”बिल्कुल मैं इस बारे में सोचूंगा.”

इसके साथ ही वो कहते हैं

”अब सभी देशों ने सभी कोच के अलग अलग रोल तय कर दिए हैं. और मुझे लगता है यह आगे और ज्यादा बेहतर होगा.”

कर्स्टन ऑस्ट्रेलिया के बारे में कहते हैं

 

”ऑस्ट्रेलिया क्रिकेट बोर्ड जस्टिन लंगर या रिकी पोंटिंग के बारे में सोच सकता है. क्योंकि वह ऑस्ट्रेलिया को बहुत अच्छी तरह जानते हैं किसी दूसरे की तुलना में. मैं जस्टिन को जानता हूं, वह एक अच्छे कोच हैं. इसलिए मुझे लगता है वह बिल्कुल सही होंगे. जबकि पोंटिंग ने टी-20 में कोच के तौर पर बहुत अच्छा किया है”

Leave a comment