धोनी के टीम में रहने से भारतीय टीम को हते है ये चार बड़े फायदे

Trending News

Blog Post

क्रिकेट

भारतीय टीम में एम एस धोनी के वापसी से विरोधी टीम से इसलिए 4 गुना बेहतर प्रदर्शन करती है भारतीय टीम 

भारतीय टीम में एम एस धोनी के वापसी से विरोधी टीम से इसलिए 4 गुना बेहतर प्रदर्शन करती है भारतीय टीम

भारतीय टीम के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी टेस्ट क्रिकेट से तो संन्यास ले चुके है, लेकिन वह अभी भी भारतीय टीम के लिए वनडे और टी20 मैच खेल रहे है.

भारतीय वनडे और टी20 टीम में धोनी की उपस्थिति का ही भारतीय टीम को बहुत बड़ा फायदा मिलता है धोनी को क्रिकेट की इतनी ज्यादा समझ है, कि उनकी यह समझ वर्तमान में भारतीय टीम के बहुत काम आती है और कही ना कही उनके अनुभव के चलते ही भारतीय टीम अब विश्व क्रिकेट में राज कर रही है.

भारतीय टीम में धोनी का होना ही भारत और दूसरी टीमों में एक बहुत बड़ा फर्क पैदा कर देता है और आज इसी के चलते हम आपकों अपने इस खास लेख में वो चार बड़े कारण बताएंगे, जिससे धोनी के भारतीय टीम में होने से ही बहुत पड़ा फर्क पड़ जाता है.

धोनी का अनुभव आता है टीम के काम 

भारतीय टीम में एम एस धोनी के वापसी से विरोधी टीम से इसलिए 4 गुना बेहतर प्रदर्शन करती है भारतीय टीम 1

एम एस धोनी लगभग 14 साल से भारतीय टीम के लिए अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट खेल रहे है उन्होंने इन 14 सालों में बहुत ज्यादा अनुभव प्राप्त कर लिया है.

धोनी लगभग 10 सालों तक तो भारतीय टीम की कप्तानी भी कर चुके है, इसलिए उन्होंने अपनी कप्तानी व अपने 14 साल के अबतक लम्बे क्रिकेट करियर में बहुत कुछ सिखा है और अब उनका यह अनुभव वर्तमान में टीम के काम आ रहा है और धोनी का अनुभव एक कारण है जो भारत और बाकि टीमों में बहुत बड़ा फर्क पैदा कर देती है.

दुनिया के  सर्वश्रेष्ठ विकेटकीपर, बल्लेबाज धोनी 

भारतीय टीम में एम एस धोनी के वापसी से विरोधी टीम से इसलिए 4 गुना बेहतर प्रदर्शन करती है भारतीय टीम 2

एम एस धोनी सालों से दुनिया के सर्वश्रेष्ठ विकेटकीपर, बल्लेबाज रहे है. एम एस धोनी की विकेटकीपिंग शानदार है उनकी जैसे स्टंपिंग आज भी दुनिया का कोई और अन्य विकेटकीपर नहीं कर पाता है. वह बिजली की रफ़्तार वाली गति से स्टंपिंग करने के लिए जाने जाते है. वही उनके विकेट के पीछे कैचिंग भी शानदार है.

उनकी बल्लेबाजी का भी कोई जवाब नहीं है और इस बात का अंदाजा इससे ही लगाया जा सकता है, कि उनका 317 वनडे मैच खेलने के बावजूद 51.37 का शानदार औसत है, इसलिए उनका बल्लेबाजी व विकेटकीपिंग दोनों में सर्वश्रेष्ठ होना भी भारतीय टीम के लिए बहुत फायदेमंद होता है. जबकि अन्य टीमों के पास उनकी जैसे क्षमता वाला विकेटकीपर बल्लेबाज नहीं होता है.

गेंदबाजो को बेहतर तरीके से करते है गाइड 

भारतीय टीम में एम एस धोनी के वापसी से विरोधी टीम से इसलिए 4 गुना बेहतर प्रदर्शन करती है भारतीय टीम 3

धोनी बहुत शानदार ढंग से अपने साथी गेंदबाजो को बताते है, कि किस बल्लेबाज को किस समय कहाँ गेंद करनी है और उनकी यह सलाह भारतीय टीम के गेंदबाजो के बहुत काम भी आती है.

अगर वर्तमान में युज्वेंद्र चहल और कुलदीप यादव इतनी शानदार गेंदबाजी कर रहे है तो इसके पीछे का कारण भी धोनी ही है. धोनी दोनों को विकेट के पीछे से बोल-बोल कर बताते रहते है, कि किस बल्लेबाज को कब, कहाँ और कैसे गेंदबाजी करनी है. जबकि अन्य टीमों में ऐसा कोई नहीं होता है जो अपने गेंदबाजो को इतने अच्छी तरह से गाइड कर सके.

विराट कोहली की करते है कप्तानी में मदद 

भारतीय टीम में एम एस धोनी के वापसी से विरोधी टीम से इसलिए 4 गुना बेहतर प्रदर्शन करती है भारतीय टीम 4

कहने के लिए तो धोनी ने जनवरी साल 2017 में ही भारतीय टीम की कप्तानी छोड़ दी है, लेकिन आज भी वह भारतीय टीम के कप्तान से कम नहीं है. वह हर मौके पर भारतीय टीम के कप्तान विराट कोहली को सपोर्ट करते हुए नजर आते है और विराट की कप्तानी में मदद करते है.

धोनी, विराट को कुल भी रखते है और उन्हें कप्तानी की सही सलाह भी देते है. धोनी डीआरएस लेने में भी विराट की मदद करते है और धोनी डीआरएस के मामले पर लगभग 99% सही होते है. कुल मिलाकर कहा जाये तो विराट के पास एक ऐसा व्यक्ति है जिससे वह जब चाहे सलाह ले सकते है. जबकि विश्व के अन्य कप्तानो के पास ऐसा कोई व्यक्ति नहीं रहता है.

Related posts

Leave a Reply