सौरव गांगुली

2008 में जब आईपीएल का आगाज हुआ तो नीलामी में सभी फ्रैंचाइजियों ने अपने-अपने स्टेट के स्टार प्लेयर्स खरीदे। परिणामस्वरूप सौरव गांगुली को कोलकाता नाइट राइडर्स ने खरीदकर टीम की कप्तानी सौंपी। मगर दादा की कप्तानी में टीम का प्रदर्शन बेहद निराशाजनक रहा, जिसके चलते उनके आईपीएल करियर का अंत भी सुखमय नहीं रहा। मगर अब दादा ने खुलासा किया है कि जब वह केकेआर के कप्तान थे तो शाहरुख खान ने उन्हें पूर्ण आजादी नहीं दी थी।

सौरव गांगुली की कप्तानी में केकेआर का प्रदर्शन निराशाजनक

सौरव गांगुली

आईपीएल 2008 के ऑक्शन में सभी फ्रैंचाइजियों ने अपने-अपने स्टार खिलाड़ियों को खरीदकर टीम की कमान सौंपी। जैसे सचिन को मुंबई इंडियंस ने, वीरेंद्र सहवाग को दिल्ली कैपिटल्स (डेयरडेविल्स), राहुल द्रविड़ को रॉयल चैलेंजर्स बैंगलौर की कमान सौंपी। वैसे ही प्रिंस ऑफ कोलकाता सौरव गांगुली को केकेआर ने खरीदा और टीम का कप्तान नियुक्त किया।

लेकिन गांगुली की कप्तानी में कोलकाता की टीम का प्रदर्शन बेहद निराशाजनक रहा, जिसके चलते दादा को अगले ही सीजन कप्तानी से हटा दिया गया। हालांकि फिर 2011 में उन्हें कप्तान बनाया गया लेकिन फिर खराब प्रदर्शन के बाद कप्तानी से हटाया और टीम से ड्रॉप कर दिया।

असल में, केकेआर के ऑस्ट्रेलियाई कोच जॉन बुकानन ने टीम में मल्टी कैप्टेंसी की पॉलिसी बनाई थी, और इससे टीम को शुरुआती साल में अच्छे नतीजे नहीं मिले थे। तीसरे सीजन में गांगुली कप्तान के तौर पर खेले लेकिन टीम छठे नंबर पर रही। इन सबके चलते अंतरराष्ट्रीय करियर की ही तरह सौरव गांगुली के आईपीएल करियर का अंत भी बेहद निराशाजनक रहा।

शाहरुख खान ने नहीं दी थी पूरी आजादी

सौरव गांगुली ने कोलकाता नाइट राइडर्स की कप्तानी की। लेकिन उनकी कप्तानी में टीम कुछ खास प्रदर्शन नहीं कर सकी। लेकिन अब सालों बाद दादा ने खुलासा किया है की टीम के मालिक शाहरुख खान ने उन्हें फ्रीडम नहीं दी थी।पूर्व कप्तान गौतम भट्टाचार्जी के यूट्यूब चैनल पर दिए इंटरव्यू में गांगुली ने कहा,

‘मैं गौतम गंभीर का एक इंटरव्यू देख रहा था, जिसमें उन्होंने कहा था कि चौथे साल में शाहरुख ने उनसे कहा था कि यह तुम्हारी टीम है और मैं इसमें कोई दखलअंदाजी नहीं करूंगा। यही बात मैंने उनसे पहले साल में कही थी, मेरे ऊपर टीम छोड़ दीजिए, लेकिन ऐसा हुआ नहीं।’

गौतम गंभीर ने जिताई 2 आईपीएल ट्रॉफी

सौरव गांगुली

सौरव गांगुली की कप्तानी में कोलकाता नाइट राइडर्स की टीम खिताबी जीत दर्ज करना तो दूर प्लेऑफ तक का सफर भी तय नहीं कर पाई थी। 2011 में केकेआर ने गांगुली को हटाकर टीम की कमान गौतम गंभीर के हाथों में सौंपी। इसके बाद तो मानो केकेआर के अच्छे दिन शुरु हो गए।

गौतम गंभीर ने केकेआर को आईपीएल 2012 व आईपीएल 2014 में कुल 2 आईपीएल खिताब जिताए। हालांकि इसके बाद से केकेआर के खाते में एक भी आईपीएल ट्रॉफी नहीं आ पाई है।