गौतम गंभीर ने केएल राहुल की कीपिंग की तरीफ करते हुए, टीम मैनेजमेंट के सामने खड़े किए कुछ बड़े सवाल

Trending News

Blog Post

क्रिकेट

गौतम गंभीर ने केएल राहुल की कीपिंग की तरीफ करते हुए, टीम मैनेजमेंट के सामने खड़े किए कुछ बड़े सवाल 

गौतम गंभीर ने केएल राहुल की कीपिंग की तरीफ करते हुए, टीम मैनेजमेंट के सामने खड़े किए कुछ बड़े सवाल

ऋषभ पंत के चोटिल होने के बाद केएल राहुल ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ विकेटकीपिंग की थी। पहले-दूसरे मैच में उनकी कीपिंग शानदार रही और इसी वजह से तीसरे मैच में पंत के फिट होने के बाद भी उन्हें खेलने का मौका नहीं मिला। भारतीय टीम के पूर्व सलामी बल्लेबाज गौतम गंभीर ने इस पर अपनी प्रतिक्रिया दी है।

राहुल की तारीफ की

गौतम गंभीर ने केएल राहुल की कीपिंग की तरीफ करते हुए, टीम मैनेजमेंट के सामने खड़े किए कुछ बड़े सवाल 1

गौतम गंभीर ने केएल राहुल के खेल की काफी तारीफ की है। उनका कहना है कि राहुल भारतीय क्रिकेट के लिए शानदार संसाधन बनकर उभरे हैं। टाइम्स ऑफ इंडिया के अपने कॉलम में उन्होंने लिखा

“केएल राहुल के बारे में बात करते हैं, भारतीय क्रिकेट के लिए एक शानदार मानव संसाधन। उनके पास एक अच्छा रवैया, शीर्ष-स्तरीय फिटनेस, शानदार स्ट्रोक और नेतृत्व गुण हैं। कॉरपोरेट पैमाने पर, राहुल एक अमूल्य मध्य-प्रबंधन संपत्ति है जिसे बड़ी भूमिकाओं के लिए तैयार किया जा सकता है।”

कुछ सवाल भी खड़े किए

गौतम गंभीर ने केएल राहुल की कीपिंग की तरीफ करते हुए, टीम मैनेजमेंट के सामने खड़े किए कुछ बड़े सवाल 2

इसके साथ ही गौतम गंभीर ने कुछ सवाल भी खड़े किए। उन्होंने टीम मैनेजमेंट से केएल राहुल के साथ ही ऋषभ पंत को लेकर सवाल पूछे हैं। उन्होंने केएल राहुल से जुड़े सवाल पूछते हुए लिखा

“मैं चाहता हूं कि निर्णय लेने वाले कुछ पहलुओं पर विचार करें। क्या उन्होंने राहुल के साथ इस बारे में चर्चा की है? क्या वह पूरी ईमानदारी से भूमिका निभा रहे हैं? आमतौर पर एक युवा क्रिकेटर के लिए “नहीं” कहना असंभव होता है।”

गौतम गंभीर ने दूसरा सवाल पंत से जुड़ा पूछा। उनका कहना है कि इस फैसले का युवा पंत पर गलत असर पड़ सकता है। उन्होंने लिखा

“दूसरा, ऋषभ पंत के साथ क्या होता है? मुझे लगता है कि उनका आत्मविश्वास पहले से ही उनकी तकनीक की वजह से नीचे गिरा हुआ है। मुझे यकीन नहीं है कि वह इस कदम को कैसे समझेंगे। ऋषभ के साथ मैदान पर और बाहर दोनों अच्छी तरह से निष्पक्ष और खुले दिल से बातचीत टीम को सुनिश्चित करनी होगी। संगठन एक प्रतिभाशाली लेकिन असंतुष्ट युवा खिलाड़ी के लिए बीमार पड़ सकता है।”

Related posts