तो भारतीय टीम में वापसी के लिए मार्शल आर्ट का सहारा ले रहे है गौतम गम्भीर

एक साल से भी अधिक समय से राष्ट्रीय टीम से बाहर चल रहे सलामी बल्लेबाज गौतम गंभीर ने भारतीय क्रिकेट टीम में वापसी की कवायद के तहत अपनी ट्रेनिंग में मिश्रित मार्शल आटर्स और जिम्नास्टिक को शामिल किया है।
      
अपने 56 टेस्ट में से आखिरी दो टेस्ट हैडिंग्ले और ओवल में खेलने वाले गंभीर को स्टुअर्ट ब्रॉड और जेम्स एंडरसन के सामने ऑफ साइड के बाहर की गेंदों पर काफी परेशानी का सामना करना पड़ा था और वह चार पारियों में दोहरे अंक तक पहुंचने में भी नाकाम रहे थे। इसके बाद उन्हें टीम से बाहर कर दिया गया।
      
अपनी तकनीक में सुधार के लिए ऑस्ट्रेलिया गए गंभीर पूर्व ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेटरों जस्टिन लैंगर और ज्यौफ मार्श के मार्गदर्शन में नेट पर बल्लेबाजी के दौरान कड़ी मेहनत कर रहे हैं। गंभीर की ट्रेनिंग का सबसे रोमांचक पहलू यह है कि वह ट्रेनिंग में मिश्रित मार्शल आटर्स और जिम्नास्टिक का भी अभ्यास कर रहे हैं। 
      
जिम्नास्टिक जहां बल्लेबाज के फुटवर्क को फुर्तीला बना सकता है वहीं मार्शल आटर्स से रिफलेक्स में सुधार हो सकता है। तेज गेंदबाजों का सामना करते हुए उचित संतुलन के अलावा फुटवर्क और रिफलेक्स दो अहम चीजें होती हैं।
      
भारतीय क्रिकेटरों के बीच तकनीकी खामियों को दूर करने के लिए आज कल निजी कोच रखना काफी लोकप्रिय है। घरेलू निजी बल्लेबाजी कोचों में प्रवीण आमरे की काफी मांग है। गंभीर ने हालांकि ऑस्ट्रेलिया के पूर्व सलामी बल्लेबाज लैंगर के मार्गदर्शन में उनके ही देश में ट्रेनिंग लेने का फैसला किया। लैंगर को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट जगत में सबसे उम्दा कोचों में से एक माना जाता है।
      
ऑस्ट्रेलिया की राष्ट्रीय टीम के बल्लेबाजी कोच लैंगर शेफील्ड शील्ड में पश्चिमी ऑस्ट्रेलिया जबकि बिग बैश में पर्थ स्कोरचर्स के कोच हैं। गंभीर ने पिछले हफ्ते लैंगर और सहायक कोच ज्यौफ मार्श के साथ वाका के इंडोर नेट की अपनी फोटो ट्वीट की थी।

Related Topics