अफरीदी ने लगाया था गम्भीर पर सबसे आक्रामक होने का आरोप, अब गम्भीर ने खोला राज क्यों रहते हैं मैदान पर इतने आक्रामक 1

गौतम गंभीर भले ही देखने में बेहद शांत दिखते हो , लेकिन वो मैदान में बहुत आक्रामक रूप में नज़र आते हैं. गंभीर की मैदान पर शाहीद अफरीदी और कोहली से लड़ाई हो चुकी हैं. और मैच के दौरान उन्हें कई बार गुस्से होते हुए देखा गया है.अपने गुस्से को ले आकर गौतम गंभीर ने आखिरकार राज खोल दिया हैं.

जीत ही रखती हैं मायने 

वीरेंद्र सहवाग ने सचिन तेंदुलकर को लेकर साझा, कि ऐसी कहानी जिसके बाद से सचिन बन गए दुनिया के लिए भगवान

अपनी आक्रामकता को लेकर गौतम गंभीर ने कहा कि मुझे जीतना पसंद है मेरे लिए जीत सब कुछ है जीतना मुझे खुश करता है, मुझे संतुष्ट करता है.  मैं जीतना चाहता हूं, भले ही कोई भी मंच हो .  मेरे जीत मेरी भूख जैसी हैं , और मुझे जीत चाहिए. और अपने जीत हासिल करने के लिए मैं कठिन मेहनत भी करता हूँ. 

आईपीएल में हुआ है बदलाव 

आईपीएल में हुए बदलाव को ले कर उन्होंने कहा कि जब मैं केकेआर में प्रथम वर्ष [2011] में शामिल हो हुआ था, तो हमारे खेल की योजना होती थी, कि पहले छह ओवरों में 40-45 रन बनना फिर विकेटों के साथ 15 ओवर में 100 ओवर तक पहुंचने का प्रयास करना  और फिर फाइनल पांच ओवर में हिट करना । और टीम का स्कोर 160 तक पहुचना. 

सचिन तेंदुलकर को पाकिस्तान में मिला एक युवा समर्थक, सचिन को अपना आदर्श मानता है यह युवा पाकिस्तानी क्रिकेटर

मुझे आज भी याद हैं जब मैं और कैलिस ओपनिंग करते थे, तो हम यही कोशिश करते थे, कि 15 ओवर तक हमे टीम का स्कोर 100 करना है, उसके बाद आखिरी ओवेर्स में हिट करना हैं . हमारे लिए तब 160 का स्कोर बहुत होता था . पर आज के समय में आईपीएल की वजह से 200 रन भी सुरक्षित नहीं हैं. ऐसे में हम ज्यादा से ज्यादा रन बनाने की कोशिश करते हैं.

कोलकत्ता को पंजाब के खिलाफ हाल में 14 रन से हार का सामना करना पड़ा था.