गौतम गंभीर ने इस खिलाड़ी को बताया कप्तान विराट कोहली का "अनमोल रत्न" 1

भारतीय टीम के पूर्व सलामी बल्लेबाज गौतम गंभीर ने भारत के युवा गेंदबाज नवदीप सैनी की जमकर तारीफ की है उन्हें विराट कोहली का खजाना बताया है. उन्होंने विराट कोहली को खुशनसीब कप्तान भी कहा है. गंभीर का मानना है कि भारत के पास इस समय दुनिया का सबसे अच्छा गेंदबाजी आक्रमण हैं. गौतम गंभीर ने टाइम्स ऑफ़ इंडिया अखबार में एक लेख लिखा जिसमें उन्हें ये सारी बाते कहीं हैं.

गौतम गंभीर ने कॉलम में लिखा

गौतम गंभीर ने इस खिलाड़ी को बताया कप्तान विराट कोहली का "अनमोल रत्न" 2

जिस तरह से सेंसेक्स बढ़ता दिख रहा है, उसी तरह से नवदीप सैनी यह इशारा कर रहे हैं कि भारतीय क्रिकेट का सिस्टम मजबूत हो चुका है. उनकी कहानी दिशा और उद्देश्य से रहित थी, लेकिन अब उनकी जिंदगी और गेंदबाजी में यह दोनों चीज हैं. जिस तरह का स्पेल सैनी ने इंदौर में दूसरे टी-20 में किया उससे विराट कोहली खुद को भाग्यशाली समझ सकते हैं, क्योंकि सैनी के पीछे उनके पास जसप्रीत बुमराह, मुहम्मद शमी, दीपक चाहर, भुवनेश्वर कुमार और अनुभवी इशांत शर्मा हैं, जो भारतीय तेज गेंदबाजी की जान हैं. मैं भविष्य में ज्यादा नहीं देखना चाहता हूं, लेकिन तेज गेंदबाजी भारतीय टीम का सीना चौड़ा कर सकती है.

गौतम गंभीर ने इस खिलाड़ी को बताया कप्तान विराट कोहली का "अनमोल रत्न" 3

गंभीर आगे लिखते हैं

गौतम गंभीर ने इस खिलाड़ी को बताया कप्तान विराट कोहली का "अनमोल रत्न" 4

2013-14 घरेलू सत्र में मेरी दिल्ली रणजी टीम के साथी सुमित नरवाल ने सैनी को मुझसे मिलवाया था. तब मैं दिल्ली टीम की कप्तानी करते हुए भारतीय टीम में वापसी के लिए प्रयास कर रहा था. हम उस समय विशुद्ध तेज गेंदबाजों को खोज रहे थे. दिल्ली टीम के अभ्यास सत्र में नरवाल को सैनी का सामना करने का मौका मिला, लेकिन आपको पता है कि सैनी अभ्यास नहीं करना चाहता था. नरवाल मेरे पास आए और बोले कि सैनी अभ्यास सत्र में नेट गेंदबाज नहीं बनना चाहता और टेनिस बॉल क्रिकेट खेलना चाहता है.

गंभीर ने बताया कैसे शुरू हुआ नवदीप सैनी का क्रिकेट करियर

गौतम गंभीर

हालांकि उनके भाग्य में कुछ और ही लिखा था. सैनी का टेनिस बॉल मैच रद हो गया और उसने नरवाल को देर रात कॉल किया और कहा कि वह उन्हें गेंदबाजी करने के लिए तैयार है. नरवाल ने सैनी को देखा था. एक पतला सा लड़का जो करनाल प्रीमियर लीग और अन्य लोकल टूर्नामेंट में खेलता था. इसी बीच वह 4-5 मैचों के लिए 2100 रुपये में गेंदबाजी करने के लिए तैयार हो गया. इसके पांच साल बाद आरसीबी ने सैनी को तीन करोड़ रुपये में खरीद लिया. बाकी पैसों के मामले का गणित मैं आप पर छोड़ देता हूं.