gautam gambhir

ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ विराट कोहली की मेजबानी में पहले वनडे मैच में उतरी भारतीय टीम को बुरी तरह से हार का सामना करना पड़ा. ऐसे में इस हार का मुख्य कारण क्या था, इसे लेकर पूर्व क्रिकेटर और एक्सपर्ट्स लगातार विचार-विमर्श करने में लगे हैं. इसी बीच भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व क्रिकेटर रहे गौतम गंभीर ने भी बड़ा बयान दिया है.

वर्ल्ड कप की गलती न दोहराए टीम इंडिया

gautam gambhir

दरअसल कंगारूओं के खिलाफ 66 रनों से पहला वनडे हारने के बाद टीम इंडिया को लेकर चारो तरफ चर्चा तेज हो गई है. इसी बीच ESPNcricinfo से बात करते हुए गौतम गंभीर ने कहा,

‘यदि हम 2023 में होने वाले वर्ल्ड कप की बात कर रहे हैं, तो हमें ऑप्शन पर ध्यान देना होगा. इसलिए साल 2019 के वर्ल्ड कप में हुई गलती को हम दोबारा से रिपीट नहीं कर सकते हैं. यदि आने वाले समय में हार्दिक पांड्या गेंदबाजी का सिरा नहीं संभालते हैं, तो टीम को दूसरा विकल्प देखना होगा. इस समय हमें एक ऐसा प्लेयर चाहिए जो टॉप 6 में बल्लेबाजी का छोर संभालने के साथ ही, 8 से 6 ओवर के लिए गेंदबाजी भी कर सके’.

6ठें नंबर पर सुंदर को दिया जाए मौका

washington sundar

इसके साथ ही आगे की बातचीत में गौतम गंभीर ने टीम इंडिया को छठे ऑप्शन के तौर पर वॉशिंगटन सुंदर का नाम सुझाया है. उनका कहना है कि,

‘मेरे मुताबिक 6वें नबंर पर वॉशिंगटन को मौका दिया जाना चाहिए. जबकि चौथे नंबर पर केएल राहुल को बल्लेबाजी करने के लिए उतारना चाहिए, क्योंकि वो टीम के शानदार बल्लेबाज हैं. हालांकि सुंदर छठें या 7वें नंबर पर पांड्या-जडेजा के साथ बैटिंग करने के लिए उतर सकते हैं. वो ऐसे गेंदबाज की लिस्ट में आते हैं जो नई गेंद के साथ भी कमाल दिखा सकते हैं. यही नहीं अगर मैदान पर दो लेफ्टी भी हों तो भी ऑप्शन के तौर पर ये बेहतर साबित हो सकते हैं. ये जरूरी नहीं कि टीम में शामिल होने वाला ऑलराउंडर तेज गेंदबाज ही हो. क्योंकि विजय शंकर अभी भी फिट नहीं है, ऐसे में मैं सुंदर को खेलते हुए देखना चाहूंगा.

कोहली को खल रही 6ठें नंबर के गेंदबाज की कमी

kohli

आपकी जानकारी कि लिए बता दें कि, वनडे सीरीज में सुंदर को भारतीय टीम का हिस्सा नहीं बनाया गया है. उन्हें सिर्फ ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ होने वाली तीन मैचों की टी-20 सीरीज में शामिल किया है. आपको जानकर हैरानी होगी कि, सुंदर ने अपने क्रिकेट करियर में सिर्फ एक ही वनडे मैच खेला है. इसके अलावा वो 23 इंटरनेशनल टी-20 मैट का हिस्सा रह चुके हैं. गौरतलब है कि, शुक्रवार को दिए बयान में भारतीय टीम के कप्तान विराट कोहली ने भी ये बात स्वीकार की थी कि, उन्हें छठें नंबर के गेंदबाज की कमी खल रही है.