अनिल कुंबले के बाद अब इस दिग्गज ने भी टीम के खराब प्रदर्शन के चलते सौंपा अपना इस्तीफ़ा

ashutosh / 24 June 2017

भारत के बाद अब श्रीलंका के कोच ग्राहम फोर्ड ने भी अपने पद से इस्तीफा दे दिया हैं. श्रीलंका का प्रदर्शन चैंपियंस ट्राफी में कुछ खास नही रहा था. टीम लीग मैच में हराने के बाद बाहर हो गई थी.

चैंपियंस ट्राफी में ख़राब प्रदर्शन के बाद दिया इस्तीफा 

Photo Credit : Google

चैंपियंस ट्राफी में श्रीलंका टीम का प्रदर्शन बेहद खराब रहा था. टीम को साउथ अफ्रीका और पाकिस्तान के खिलाफ हार का सामना करना पड़ा था. हालाँकि टीम ने चैंपियंस ट्राफी में भारत को हराया था. लेकिन पाक के खिलाफ हार के बाद वो सेमीफाइनल में जगह नही बना पाए थे.

ट्विटर प्रतिक्रिया : आयरलैंड और अफगानिस्तान के टेस्ट टीम का दर्जा मिलने पर सहवाग और जयवर्धने जैसे दिग्गजों ने दी बधाई

ऐसे में टीम के ख़राब प्रदर्शन की जिम्मेदारी लेते हुए श्रीलंका के कोच ग्राहम फोर्ड ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है. हालांकि  उनका टीम से करार 2019 तक के वर्ल्ड कप तक था. लेकिन चैंपियंस ट्राफी में टीम के ख़राब प्रदर्शन के बाद उन्होंने इस्तीफा दे दिया. कोच पद छोड़ने के बाद फोर्ड अपने देश साउथ अफ्रीका वापस लौट जाएँगे.

photo credit : Getty images

फ़ील्डिंग कोच निभाएँगे कोच की भूमिका 

श्रीलंका को आने समय में जिम्बावे के खिलाफ 5 मैच की वन डे सीरीज खेलनी हैं. इसके अलावा ज़िम्बाब्वे के खिलाफ श्रीलंका 1 टेस्ट मैच भी खेलेगी. ऐसे में फोर्ड के जाने के बाद श्रीलंका के फ़ील्डिंग कोच निक पोंथस उनकी जगह लेंगे.

SHOCKING: भारतीय टीम की हार पर रोया ये पाकिस्तानी परिवार, पुरे मैच के दौरान पाकिस्तान छोड़ किया भारतीय टीम को सपोर्ट

 

फोर्ड के निर्देशन में टीम का प्रदर्शन रहा था निराशाजनक 

Photo Credit : Getty Images

फोर्ड ने पिछले साल फरवरी में श्रीलंका के कोच के रूप में पदभार संभाला था और वह 15 तक श्रीलंका टीम से जुड़े रहें. उनके निर्देशन में श्रीलंका ने घरेलू सीरीज में ऑस्ट्रेलिया को 3-0 से हराया था. जबकि टीम टी-20 विश्व कप और चैंपियंस ट्राफी में पहले दौरे से भी आगे नही बढ़ नही पाई. इस साल श्रीलंका टीम साउथ अफ्रीका के दौरे पर गई थी. जहाँ उसे टेस्ट सीरीज 3-0 और वन डे सीरीज 5-0 से हार का सामना करना पड़ा. उनके कार्यकाल में श्रीलंका को पहली बार बांग्लादेश के खिलाफ टेस्ट मैच में हार का सामना करना पड़ा.