बर्थडे स्पेशल : सौरव गांगुली की वजह से खत्म हो गया था इस गेंदबाज का करियर दोबारा हाशिल ही नहीं कर सका आत्मविश्वास

vineetarya / 21 December 2017

140 साल के क्रिकेट इतिहास में आज तक कई यादगार वाक्ये रहे है और आज हम भी आपकों अपने इस खास लेख में क्रिकेट का एक बहुत ही यादगार वाक्ये के बारे में ही बताएंगे.

जिस यादगार वाक्ये की हम बात कर रहे है वह वाक्या भारतीय टीम के पूर्व कप्तान सौरव गांगुली और जिम्बाब्वे टीम के पूर्व स्टार ऑलराउंडर ग्रांट फ्लावर के बीच घटा था.

गांगुली ने ग्रांट की गेंद पर छक्के लगा स्टेडियम से बाहर भेज दी थी गेंद

जब कोका कोला चैंपियन ट्रॉफी का फाइनल मैच भारतीय टीम और जिम्बाब्वे के बीच खेला जा रहा था. तो भारतीय टीम के पूर्व कप्तान सौरव गांगुली इस मैच में शानदार बल्लेबाजी कर रहे थे और हर गेंद को बाउंड्री के पार पहुंचा दे रहे थे. इस मैच में सौरव गांगुली ने तीन छक्के ऐसे लगाये की गेंद स्टेडियम से भी बाहर चली गई थी और गांगुली ने यह तीनों छक्के ग्रांट फ्लावर की गेंद पर ही लगाये थे, इसके बाद से ग्रांट फ्लावर अपने क्रिकेट करियर में बहुत कम गेंदबाजी करने लगे थे.

इस मैच में भारतीय टीम को 197 रन का लक्ष्य मिला था और इस मैच को भारत ने सचिन और सौरव की शानदार बल्लेबाजी से बड़े ही आसानी से जीत लिया था और इस मैच में सचिन ने हैनरी ओलंगा की भी जमकर पिटाई की थी.

आज 47वां जन्मदिन भी मना रहे है ग्रांट फ्लावर अपना 

आपकों बता दे, कि जिम्बाब्वे टीम के पूर्व स्टार ऑलराउंडर ग्रांट फ्लावर आज अपना 47वां जन्मदिन मना रहे है. ग्रांट फ्लावर ने अपने भाई एंडी फ्लावर के साथ मिलकर जिम्बाब्वे के लिए कई  शानदार पारियां खेली और अपनी टीम को कई मैच जीतवाये.

ग्रांट फ्लावर ने अपना डेब्यू मैच भारतीय टीम के खिलाफ 1992 में खेला था उन्होंने अपने करियर का अंतिम मैच साउथ अफ्रीका के खिलाफ 2010 में खेला था.

टीम के हारे हुए मैच में भी जीता है ‘मैन ऑफ़ द मैच’

आपकों बता दे, कि ग्रांट फ्लावर के नाम एक ऐसा रिकॉर्ड है जिसे बहुत कम क्रिकेटर हासिल कर पाते है. दरअसल ग्रांट फ्लावर ने अपनी टीम की हारे हुए मैच में भी मैन ऑफ़ द मैच का खिताब जीता है.

1992 में भारत और जिमबाब्वे के बीच हुए दुसरे वनडे मैच में जिम्बाम्बे के लिए ग्रांट फ्लावर ने 65 गेंदों में 57 रन की पारी खेली थी और इस मैच को भले ही भारतीय टीम ने जीता हो, लेकिन इस मैच में मैन ऑफ़ द मैच का पुरस्कार ग्रांट फ्लावर को ही मिला था.

ऐसा रहा है ग्रांट फ्लावर का क्रिकेट करियर

आपकों बता दे, कि ग्रांट फ्लावर ने अपने देश के लिए 67 टेस्ट मैच 221 वनडे मैच खेले जिसमे ग्रांट फ्लावर ने टेस्ट में 29.54 की औसत से 3457 रन व वनडे में 33.52 की औसत से 6571 रन बनाये हुए है.

ग्रांट फ्लावर ने टेस्ट में 25 व वनडे में 104 विकेट भी लिए हुए है. ग्रांट फ्लावर वर्तमान में पाकिस्तान टीम के साथ बतौर बल्लेबाजी कोच जुड़े हुए है.