पूर्व भारतीय कोच ग्रेग चैपल ने कहा राहुल द्रविड़ ने ऑस्ट्रेलिया से सीखकर तैयार की है भारतीय टीम 1

ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान ग्रेग चैपल ने एक बार फिर भारतीय क्रिकेटरों की तारीफ में कसीदे पढ़े हैं. इसके साथ ही मैनेजमेंट की भी तारीफ की है. ग्रेग चैपल का इस मामले में कहना है कि युवा प्रतिभा को पहचानने में भारत आस्ट्रेलिया से बेहतर है.

चैपल ने कहा कि भारत और इंग्लैंड दोनों ही युवा टैलेंट को आगे बढ़ाने के मामले में ऑस्ट्रेलिया से आगे हैं. चैपल ने कहा कि भारत इस काम में तेजी लाया है, क्योंकि राष्ट्रीय क्रिकेट अकादमी के चीफ राहुल द्रविड़ ने अपना दिमाग लगाया और युवा प्रतिभा को पहचाना.

राहुल द्रविड़ की तारीफ में पढ़े कसीदेः

पूर्व भारतीय कोच ग्रेग चैपल ने कहा राहुल द्रविड़ ने ऑस्ट्रेलिया से सीखकर तैयार की है भारतीय टीम 2

उन्होंने इस दौरान कहा कि मुझे लगता है कि ऑस्ट्रेलिया युवा प्रतिभा को पहचानने की अपनी स्थिति को गंवा चुका है और इंग्लैंड तथा भारत हमसे इस मामले में आगे निकल चुके हैं.

72 साल के पूर्व क्रिकेटर ग्रैग चैपल ने कहा कि अगर इतिहास को देखा जाए तो हम युवा खिलाड़ियों को विकसित करने के मामले में बेस्ट थे, लेकिन पिछले कुछ सालों में इसमें बदलाव आया है.

युवा प्रतिभा को पहचानने में भारत सबसे बेहतरः

पूर्व भारतीय कोच ग्रेग चैपल ने कहा राहुल द्रविड़ ने ऑस्ट्रेलिया से सीखकर तैयार की है भारतीय टीम 3

चैपल ने अपनी बात को आगे बढ़ाते हुए कहा कि मैंने देखा है कि कई युवा खिलाड़ी जिनके पास काबिलियत है. उन्हें मौका नहीं दिया जा रहा है. इसे किसी भी कारण स्वीकार नहीं किया जा सकता है. हम एक खिलाड़ी को भी नहीं खो सकते हैं.

पूर्व कप्तान ये भी चाहते हैं कि ऑस्ट्रेलिया का प्रीमियर घरेलू प्रतियोगित शेफील्ड शील्ड को अगस्त या सितंबर में जल्द शुरु किया जाए और इसे हर साल बिग बैश लीग से पहले कराया जाना चाहिए. बिग बैश के बाद ऑस्ट्रेलिया ए मैचों के लिए रिजर्व रखना चाहिए.

हम युवा प्रतिभा को पहचानने में हो रहे फेलः

पूर्व भारतीय कोच ग्रेग चैपल ने कहा राहुल द्रविड़ ने ऑस्ट्रेलिया से सीखकर तैयार की है भारतीय टीम 4

चैपल ने इस दौरान कहा कि हमारे पास फुल टाइम क्रिकेटर्स हैं, लेकिन पता नहीं क्यों हम लगातार क्रिकेट सीजन क्यों नहीं रख पा रहे हैं. हमें इन खिलाड़ियों को साल में महीने तक खिलाना चाहिए. मेरा मानना है कि शेफील्ड शील्ड के लिए फुल ब्लाक रखना चाहिए, जिससे खिलाड़ी लाल गेंद के क्रिकेट को ज्यादा खेलें.