साउथ अफ्रीका के इस खिलाड़ी को स्पॉट फिक्सिंग के कारण मिली पांच साल की सजा

Trending News

Blog Post

क्रिकेट

साउथ अफ्रीका के इस खिलाड़ी को स्पॉट फिक्सिंग के कारण मिली पांच साल की सजा 

साउथ अफ्रीका के इस खिलाड़ी को स्पॉट फिक्सिंग के कारण मिली पांच साल की सजा

क्रिकेट खेलने वाले खिलाड़ियों के लिए सबसे बड़ी गुनाह फिक्सिंग करना होता है. जब को कोई खिलाड़ी मैच फिक्सिंग या स्पॉट फिक्सिंग में पकड़ा जाता है तो उस पर सबसे पहले बैन लगा दिया जाता है. फिक्सिंग में दक्षिण अफ्रीका का इतिहास रहा है. अब एक अफ्रीका के खिलाड़ी गुलाम बोदी पर फिक्सिंग का आरोप साबित हो गया है. जिसके कारण उन्हें सजा दी जा रही है.

गुलाम बोदी को फिक्सिंग के कारण मिली सजा

गुलाम बोदी

पूर्व दक्षिण अफ्रीका के खिलाड़ी गुलाम बोदी पर अब फिक्सिंग का आरोप साबित हो गया है. जिसके कारण उन्हें प्रिटोरिया वाणिज्यिक अपराध न्यायालय ने शुक्रवार को पांच साल की सजा सुनाई है. बोदी पर ये आरोप 2015 में घरेलू क्रिकेट खेलने के दौरान लगा था .

जिसपर फैसला अब आया है. फिक्सिंग में फंसने वाले ये दक्षिण अफ्रीका के 5वें खिलाड़ी है. इनसे पहले कई दक्षिण अफ्रीका के दिग्गज फिक्सिंग में फंस चुके हैं. वह 2004 के भ्रष्टाचार अधिनियम की रोकथाम और मुकाबला के तहत मुकदमा चलाने वाले पहले दक्षिण अफ्रीकी खिलाड़ी हैं.

दक्षिण अफ्रीका के लिए कम खेले गुलाम बोदी खिलाड़ी

साउथ अफ्रीका के इस खिलाड़ी को स्पॉट फिक्सिंग के कारण मिली पांच साल की सजा 1

इस खिलाड़ी ने दक्षिण अफ्रीका के लिए 2 एक्दिवैस्य मैच खेला. जिसमें उन्होंने 41.50 के औसत से 83 रन बनाये. उसके बाद ही ये भारतीय मूल के खिलाड़ी को टीम में मौका नहीं मिला. एकदिवसीय क्रिकेट में इस खिलाड़ी ने 1 अर्द्धशतक भी लगाया है.

टी20 में इस खिलाड़ी ने अफ्रीका के लिए 1 मैच में 8 रन बनाये हैं. हालाँकि इस फ़ॉर्मेट में वो सफल नहीं हुए. हालाँकि टी20 लीग में खेलते हुए इस खिलाड़ी ने अच्छे गति से रन बनाये हैं. घरेलू क्रिकेट में इस खिलाड़ी ने बहुत क्रिकेट खेले हैं. बोदी एक आलराउंडर खिलाड़ी हैं.

स्पॉट फिक्सिंग से जुड़ा था मामला

साउथ अफ्रीका के इस खिलाड़ी को स्पॉट फिक्सिंग के कारण मिली पांच साल की सजा 2

2014 में गुलाम बोदी एक भारतीय मैच फ़िक्सर से मिले थे. उसके बाद 2015 में उन्होंने लायंस के लिए खेलने वाले पूर्व खिलाड़ी को भी उनके मिलवाया. अपने साथियों को आसानी से पैसा कमाने की संभावना के बारे में बताने के लिए सुपरस्पोर्ट कमेंटेटर के रूप में उन्हें प्रदान की गई पहुंच का उपयोग किया. जिसके कारण उनपर ये केस चल रहा था.

Related posts