मोहम्मद हफीज को मिली बड़ी राहत, मीडिया को दिए गए बयान पर नहीं होगी कोई कार्रवाई

Trending News

Blog Post

क्रिकेट

आईसीसी का प्रोटोकॉल तोड़ने के बाद अब मोहम्मद हफीज पर आया फैसला 

आईसीसी का प्रोटोकॉल तोड़ने के बाद अब मोहम्मद हफीज पर आया फैसला

पाकिस्तानी क्रिकेट बोर्ड (पीसीबी) ने ऑलराउंडर मोहम्मद हफीज के खिलाफ कार्रवाई न करने का फैसला किया है क्योंकि खिलाड़ी ने संदिग्ध गेंदबाजी कार्रवाई की जांच करने की बायोमेकैनिक प्रक्रिया में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) प्रोटोकॉल के बारे में काफी कुछ कहा था।

उपचारात्मक गेंदबाजी एक्शन के बाद तीसरी बार आईसीसी ने उन्हें गेंदबाजी करने की अनुमति के सिर्फ दो सप्ताह बाद, पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड ने हफीज को अपनी तीन सदस्यीय अनुशासनात्मक समिति के सामने अपनी स्थिति की व्याख्या करने के लिए एक नोटिस जारी किया था।

आईसीसी का प्रोटोकॉल तोड़ने के बाद अब मोहम्मद हफीज पर आया फैसला 1

इंटरव्यू में क्या कहा मोहम्मद हफीज ने

बायोमेकैनिक टेस्ट के लिए आईसीसी के नियमों पर अपने विचार व्यक्त करने वाले हफीज ने तीन सदस्यीय पीसीबी अनुशासनात्मक समिति को स्पष्ट कहा कि उनके विचारों को ‘गलत समझा गया है।

“मेरा इरादा आईसीसी के प्रोटोकॉल की आलोचना नहीं करना था और न ही मैंने अपने साक्षात्कार में किसी भी सम्मानित क्रिकेट बोर्ड का उल्लेख किया था। उस दिए गए इंटरव्यू में मैंने गेंदबाजी एक्शन के स्तर को सुधारने संबंधी कुछ सुझाव दिए थे, ताकि क्रिकेट प्रशंसकों को इसे समझने में कोई परेशानी न हो। दुर्भाग्यवश मेरे बयान को गलत तरीके से पेश किया गया, “हफीज ने कहा।

आईसीसी का प्रोटोकॉल तोड़ने के बाद अब मोहम्मद हफीज पर आया फैसला 2

क्या कहा पीसीबी अनुशासनात्मक समिति ने

बता दें कि पीसीबी अनुशासनात्मक समिति में निदेशक क्रिकेट संचालन हारून रशीद, निदेशक मीडिया और समन्वय अमजद हुसैन और जीएम कानूनी सलमान नसीर शामिल हैं। ऑलराउंडर के स्पष्टीकरण को स्वीकार करते हुए पीसीबी ने कहा, “हफीज ने गेंदबाजी एक्शन पर आईसीसी प्रोटोकॉल के बारे में अपनी हालिया टिप्पणियों को स्पष्ट किया है। समिति ने हफीज के स्पष्टीकरण को स्वीकार कर लिया और उनसे मीडिया को अपनी टिप्पणियों को स्पष्ट करने के लिए कहा।”

आईसीसी का प्रोटोकॉल तोड़ने के बाद अब मोहम्मद हफीज पर आया फैसला 3
CREADIT: Getty Images

समिति ने अब इस मामले को बंद कर दिया है, इस मामले पर आगे कोई कार्रवाई नहीं की जाएगी। नवंबर में न्यूज़ीलैंड के खिलाफ टेस्ट श्रृंखला के दौरान अवैध गेंदबाजी कार्रवाई के लिए रिपोर्ट होने के बाद दिसंबर 2014 में हफीज को पहली बार गेंदबाजी से निलंबित कर दिया गया था। उपचारात्मक एक्शन के बाद उन्हें पुनः अप्रैल 2015 में गेंदबाजी करने की अनुमति दी गई थी। इसके बाद इन्हें 2016 में भी अवैध गेंदबाजी के लिए दोषी पाया गया था।

तो इसके बाद अक्टूबर 2017 में भी श्रीलंका के खिलाफ अबू धाबी वनडे के दौरान तीसरी बार इन्हें अवैध गेंदबाजी एक लिए दोषी पाया गया था। लेकिन बाद में उनकी गेंदबाजी एक्शन को आईसीसी एन सही बताया था।

Related posts

Leave a Reply