हसन

आईसीसी वर्ल्ड 2019 इंग्लैंड एंड वेल्स में खेला जा रहा है। सभी टीमें सेमीफाइनल में पहुंचने की दौड़ में एक-दूसरे को पछाड़ने में जुटी हुई हैं। शनिवार को भारत बनाम अफगानिस्तान का मुकबला है। एक तरफ वह टीम है जिसने टूर्नामेंट में एक भी मैच नहीं हारा तो दूसरी तरफ वह टीम है जिसने अभी तक टूर्नामेंट में अपनी जीत का खाता ही नहीं खोला है।

हामिद हसन ने बताया उस बल्लेबाज का नाम जिसका शॉट लगने पर लगा नहीं हैं जिंदा 1

अफगानिस्तान बोर्ड के अधिकारियों ने आईसीसी वर्ल्ड कप शुरू होने से पहले ही असगर अफगान को कप्तानी से हटा दिया था। अफगान की जगह उन्होंने बतौर कप्तान गुलबदीन नैब को टीम में जगह दी थी। बोर्ड के इस फैसले से टीम के कई खिलाड़ी खिलाफ खड़े हो गए थे।

हसन को लेकर भी खड़ा हुआ था टीम में विवाद

इस विवाद का एक और कारण चयनकर्ता थे जो तेज गेंदबाज हामिद हसन को अफगानिस्तान की टीम में शामिल करना चाहते थे। क्योंकि जिन्होंने पिछले 2-3 सालों में अफगानिस्तान की राष्ट्रीय टीम के लिए अच्छा खेला था। इसके बावजूद उनका नाम विश्व कप टीम में शामिल नहीं किया ,गया था। हालांकि, हसन के पास आईसीसी वर्ल्ड कप में अफगानिस्तान के लिए खेलने के पीछे एक दिल को छू लेने वाली कहानी है।

हसन ने बताई अपनी दर्द भरी कहानी

हसन ने बताया कि

“इंग्लिश खिलाड़ी एलेस्टेयर कुक ने एक शॉट मारा, मैंने गेंद को रोकने की बहुत कोशिश की, लेकिन रोक नहीं सका। मेरे दिमाग में उस वक्त दो बातें एक साथ चल रही थी कि मैं गेंद को रोकूं या छोड़ दूं। मैंने गेंद को छोड़ने का फैसला किया, लेकिन जब मैं दौड़ रहा था मेरी रफ्तार बहुत ही अधिक थी तो मुझे कूदना पड़ा। मैं कूद तो गया, मेरा दाहिना घुटना मेरे बाएं घुटने के साथ नहीं रहा दोनों में काफी दूरी हो गई। और मैं वहीं गिर पड़ा मेरे दोनों घुटने, कंधा और मेरा पूरा शरीर चोटिल हो गया।

हामिद हसन ने बताया उस बल्लेबाज का नाम जिसका शॉट लगने पर लगा नहीं हैं जिंदा 2

हामिद हसन ने बताया उस बल्लेबाज का नाम जिसका शॉट लगने पर लगा नहीं हैं जिंदा 3

मैं शायद एक मिनट के लिए होश में था। मुझे लगा कि मैं मर गया। जब मैंने अपनी आंखें खोलीं तो मैं नीचे की ओर पड़ा हुआ था, मैं अपना हाथ आगे नहीं बढ़ा रहा था। मेरा पैर, एक सेंटीमीटर भी नहीं हिल रहा था। मैंने एक छोटे बच्चे की तरह दर्द के कारण रोना शुरू कर दिया।

मुझे एक स्ट्रेचर पर बैठाया गया वह मुझे एक अस्पताल ले गए जो वहां से चालीस मिनट दूर था और पूरे चालीस मिनट मैं रो रहा था क्योंकि दर्द मेरे बर्दाश्त के बाहर था। मेरे पैर में हर जगह चोट के निशान थे। दो-तीन दिनों के लिए उन्होंने कुछ एमआरआई स्कैन लिए। मेरा दाहिना पैर पूरी तरह बैंगनी हो गया था और फिर मुझे उसका ऑपरेशन करवाना पड़ा।

वर्ल्ड कप 2019 के बाद संन्यास लेंगे हसन

हामिद हसन ने बताया उस बल्लेबाज का नाम जिसका शॉट लगने पर लगा नहीं हैं जिंदा 4

तब से, हसन केवल 2015 विश्व कप सहित अफगानिस्तान के लिए खेले। जहां उन्होंने टूर्नामेंट में अफ़गानिस्तान के लिए पहला विकेट चटकाया। आपको बता दें, वह पहले ही घोषणा कर चुके हैं कि वह इस विश्व कप के बाद एकदिवसीय प्रारूप से संन्यास ले लेंगे।