हनुमा विहारी ने बताया, किस तरह चेतेश्वर पुजारा ने की 101 रनों की पारी खेलने में उनकी मदद 1

न्यूजीलैंड ए और भारत के बीच 3 दिवसीय अभ्यास मैच की शुरुआत हो चुकी है। भारतीय कप्तान विराट कोहली ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया। टीम के लिए हनुमा विहारी ने शतक बनाया वहीं चेतेश्वर पुजारा ने 93 रन बनाए। इसके बाद भी टीम 263 रनों पर ऑलआउट हो गई। विहारी 101 रन बनाने के बाद रिटायर हर्ट हुए। दोनों बल्लेबाजों के बीच 195 रनों की साझेदारी हुई थी। इनके अलावा अजिंक्य रहाणे के बल्ले से 18 रनों की पारी निकली।

विहारी को मिली थी सलाह

हनुमा विहारी ने बताया, किस तरह चेतेश्वर पुजारा ने की 101 रनों की पारी खेलने में उनकी मदद 2

101 रनों की पारी खेलने के बाद हनुमा विहारी ने बताया कि चेतेश्वर पुजारा ने उन्हें सलाह दी थी। पुजारा ने उन्हें सलाह दी कि ज्यादा गेंदें छोड़ने के लिए कहा था। विहारी और पुजारा के अलावा सभी भारतीय बल्लेबाज पिच पर नहीं टिक पाए। उन्होंने मैच के बाद प्रेस कॉन्फ्रेस में कहा

हनुमा विहारी ने बताया, किस तरह चेतेश्वर पुजारा ने की 101 रनों की पारी खेलने में उनकी मदद 3

“जब मैं अंदर गया तो विकेट में काफी मदद थी। विकेट पर काफी घास कवर था और हमने चार शुरुआती विकेट गंवाए। हम 40-4 थे। हमने ने बात कि बल्लेबाजी करने और नई गेंद को देखने की थी क्योंकि वे अच्छी जगहों पर गेंदबाजी कर रहे थे। मैंने बीच में कुछ समायोजन किया है क्योंकि लिंकन में विकेट जो यहां है उससे काफी अलग था। पुजारा मेरी मदद करने के लिए वहां थे। उन्होंने मुझसे कहा कि मैं क्या कर सकता हूं, इस विकेट पर अधिक गेंदों को छोड़ दो।”

विकेट में काफी उछाल था

हनुमा विहारी ने बताया, किस तरह चेतेश्वर पुजारा ने की 101 रनों की पारी खेलने में उनकी मदद 4

हनुमा विहारी ने बताया कि पिच में काफी उछाल था। उन्होंने इससे पहले न्यूजीलैंड ए के खिलाफ दो अनाधिकारिक टेस्ट मैच खेला। उनका कहना है कि इस विकेट में उस सभी विकेट से ज्यादा उछाल था। उन्होंने इस बारे में बात करते हुए कहा

“विकेट में अच्छा उछाल था। न्यूजीलैंड में मैंने पहले जो अनुभव किया है, उससे कहीं अधिक मुझे लगता है। मुझे सेट होने में कुछ समय लगा और फिर एक बार मुझे पता था कि मुझे किन शॉट्स से बचना है। मुझे पुल और हूक करने से बचना था। शुरुआत में मैंने यही करने की कोशिश की थी।”