क्रुणाल पांड्या

भारतीय क्रिकेट टीम के ऑलराउंडर खिलाड़ी हार्दिक पांड्या व क्रुणाल पांड्या के पिता हिमांशु पंड्या का शनिवार सुबह दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया। जिसके बाद बड़ौदा की कप्तानी कर रहे क्रुणाल सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी के बायो बबल को छोड़कर घर वापस लौट गए हैं। बडोदरा क्रिकेट एसोसिएशन ने मुश्किल वक्त में हार्दिक व क्रुणाल के साथ रहने की बात कही है।

हार्दिक व क्रुणाल पांड्या के पिता का निधन

हार्दिक और क्रुणाल पांड्या के पिता का हुआ निधन, क्रुणाल सैयद मुश्ताक अली छोड़ पहुंचे घर 1

टीम इंडिया के ऑलराउंडर खिलाड़ी हार्दिक पांड्या व क्रुणाल पांड्या के पिता को शनिवार सुबह दिल का दौरा पड़ा, जिसके बाद उनका निधन हो गया। जिस वक्त उनके पिता का निधन हुआ, उस वक्त क्रुणाल पांड्या अपनी घरेलू टीम का नेतृत्व कर रहे थे।

इस खबर के मिलते ही क्रुणाल बड़ोदरा की कप्तानी छोड़कर अपने पिता के पास पहुंचने के लिए रवाना हो गए।बड़ौदा क्रिकेट असोसिएशन के सीईओ शिशिर हतंगड़ी ने इस घटना पर शोक जताया है। उन्होंने कहा है, ‘हां, क्रुणाल पंड्या बबल से बाहर चले गए हैं। यह एक निजी क्षति है। बड़ौदा क्रिकेट असोसिएशन इस दुख की घड़ी में हार्दिक और क्रुणाल के साथ है।’

क्रुणाल पांड्या की कप्तानी में अच्छा प्रदर्शन कर रही थी टीम

क्रुणाल पांड्या

क्रुणाल पांड्या को उनकी घरेलू वडोदरा की टीम की कप्तानी सौंपी गई थी। जहां, अब तक उनकी कप्तानी में टीम ने तीन मैच खेले और तीनों ही मैचों में शानदार प्रदर्शन करते हुए जीत अपने नाम की। इसके अलावा यदि पांड्या के निजी प्रदर्शन की बात करें, तो उन्होंने गेंद व बल्ले दोनों से ही अब तक तीनों ही मैचों में अच्छा खेल दिखाया है।

मगर अब क्रुणाल पांड्या अपने पिता के निधन की खबर सुनकर आनन-फानन में घर के लिए निकल गए हैं। वहीं हार्दिक पांड्या की बात करें, तो वह सैयद मुश्ताक अली टूर्नामेंट में हिस्सा नहीं ले रहे हैं और वह इंग्लैंड के खिलाफ होने वाली लिमिटेड ओवर सीरीज के लिए तैयारी कर रहे हैं।