हार्दिक पंड्या का खुलासा, चयनकर्ताओं ने एटीट्यूड की समस्‍या बता टीम से किया बाहर 1

भारतीय क्रिकेट टीम के स्टार ऑलराउंडर खिलाड़ी हार्दिक पंड्या आज टीम के सबसे प्रमुख खिलाड़ियों में से एक हैं। हार्दिक पंड्या पिछले कुछ साल में अपने आपको नंबर वन ऑलराउंडर की तरह साबित किया और टीम की जान बने हुए हैं। हालांकि पिछले कुछ महीनों से वो चोट के कारण टीम से दूर हैं।

एटिट्यूड के कारण टीम से हुए थे हार्दिक पंड्या बाहर

लेकिन उनके चोट से उबरने के साथ ही आसानी के साथ वापसी हो जाएगी। आज हार्दिक पंड्या के पास वो सबकुछ है जिसे सभी खिलाड़ी चाहते हैं। लेकिन एक दौर ऐसा था जब पंड्या को टीम से उनके बर्ताव के कारण बाहर कर दिया गया था।

हार्दिक पंड्या का खुलासा, चयनकर्ताओं ने एटीट्यूड की समस्‍या बता टीम से किया बाहर 2

इसमें कोई दो राय नहीं है कि हार्दिक पंड्या अपने एटिट्यूड के कारण अक्सर ही चर्चा का केन्द्र बने रहते हैं। लेकिन उन्हें अपने इसी नेगेटिव एटिड्यूड के कारण भारतीय टीम से बाहर का रास्ता दिखाया गया था।

हार्दिक पंड्या को जब खराब एटिट्यूड की वजह से टीम से किया बाहर

खुद हार्दिक पंड्या ने बताया कि उन्हें अंडर-16 की टीम से खराब के कारण टीम से बाहर कर दिया था और उसी दौरान उनके पिता को भी हार्ट अटैक आ गया था। हार्दिक पंड्या ने इस बारे में बात करते हुए बताया कि

“मुझे याद है कि मेरे कोच के साथ व्यवहार के चलते मुझे अंडर 17 टीम से निकाल दिया गया। ये काफी हास्यास्पद था। मुझे याद है कि किसी ने भाई से कहा था कि मेरे साथ एटीट्यूड प्रॉब्लम है। 16 साल की उम्र में मुझे पता भी नहीं था कि एटीट्यूड क्या होता है। ये हंसने वाली बात थी कि किसी ने मुझे एटीट्यूड के बारे में बताया। “

हार्दिक पंड्या का खुलासा, चयनकर्ताओं ने एटीट्यूड की समस्‍या बता टीम से किया बाहर 3
हार्दिक पांड्या
हार्दिक पांड्या

“उसी कारण से मैं टीम से बाहर हो गया और उसी समय पिता को हार्ट अटैक आया। वही कमाते थे। अगर मैं गलत नहीं हूं तो मुझे क्रुणाल को उस समय अंडर-16 या अंडर 19 खेलने के लिए एक साल में 35 हजार रूपये मिलते थे।”

अंडर-16 की टीम से बाहर करने की पीड़ा हार्दिक की जुबानी

हार्दिक ने आगे कहा कि “पापा को हार्ट अटैक आया। उनका दफ्तर जाना बंद हो गया। क्रुणाल भी टीम से बाहर हो गया। मैं भी बाहर था। उस समय सबकुछ रूक गया। 35 हजार रुपये जो एक-दो महीने के लिए हमारी मदद कर सकते थे वे भी नहीं आ रहे थे। हमने अच्छा समय देखा था। हमारा परिवार सामान्य था, लेकिन चीजें अचानक बदल गई। मानसिक रूप से मैं इसे मान नहीं पाया। और मैंने पूछा, हम ही क्यों? तब मैंने फैसला किया था कि मैं खेल में पूरी जान लगा दूंगा।”

हार्दिक पंड्या का खुलासा, चयनकर्ताओं ने एटीट्यूड की समस्‍या बता टीम से किया बाहर 4

भारत के इस स्टार ऑलराउंडर हार्दिक ने कहा कि “मैं पूरी तरह से क्रिकेट में डूब गया। मैंने लोगों से बात करना बंद कर दिया। मैं पूरी तरह से दुनिया से कट गया। इसके अगले साल भी उन्होंने मुझे नहीं चुना। लेकिन मुझे याद है कि मेरे अंडर-19 के असिस्टेंट कोच और कप्तान ने मुझे मौका देने की मांग की। इसके बाद चयनकर्ताओं ने मौका दिया। मुझे याद है कि उन्होंने कहा था कि वे केवल एक मौका देंगे। अगर मैं फेल रहा तो वे कुछ नहीं कर पाएंगे।