रेलवे

रणजी ट्रॉफी टूर्नामेंट में रेलवे क्रिकेट टीम ने 41 बार की चैंपियन रही मुंबई क्रिकेट टीम को बुरी तरह से हरा दिया था. 10 विकेट से मिली हार के बाद मुंबई के प्रदर्शन की कई दिग्गजों ने आलोचना की. अब रेलवे के तेज गेंदबाज हिमांशु सांगवान उस मैच के स्टार परफॉर्मर थे. हिमांशु ने अजिंक्य रहाणे, पृथ्वी शॉ सहित कुल 6 विकेट चटकाए थे. अब उन्होंने बताया है

ग्लेन मैग्रा से सीखा बहुत कुछ

हिमांशु सागवान

मुंबई क्रिकेट टीम के खिलाफ 6 विकेट लेकर तूफानी गेंदबाजी करने वाले तेज गेंदाबज हिमांशु सांगवान ने टाइम्स ऑफ इंडिया से बात करते हुए कहा,

“मैं ऑस्ट्रेलिया के दिग्गज ग्लेन मैक्ग्रा से प्रेरणा लेता हूं. वो मेरे आदर्श हैं. मैंने एमआरएफ पेस फाउंडेशन में अपने कार्यकाल के दौरान मैक्ग्रा से बहुत कुछ सीखा है.

मैं मार्च (2019) में एक छोटे कैंप के लिए वहां गया था. वह मेरे वीडियो देखते थे और मुझे मेरी कमियों को बताते थे, जिनमें मुझे सुधार करना चाहिए. वह खेल की एक किंवदंती है. उन्होंने मुझसे एक बात कही थी कि जब मुसीबत में हो, तो बुनियादी बातों में जाओ.

शॉ-रहाणे के खिलाफ रणनीति के साथ की गेंदबाजी

हिमांशु सागवान

रेलवे के खिलाफ खेले गए मैच में पृथ्वी शॉ 12,23 रन बनाए, तो वहीं टीम इंडिया के उप कप्तान अजिंक्य रहाणे 5 और रन बनाकर पवेलियन लौट गए. दोनों के विकेटों के पीछे की रणनीति का खुलासा करते हुए हिमांशु ने कहा,

मुझे पता था कि पृथ्वी एक आक्रामक खिलाड़ी हैं. वह हमेशा आक्रामण करते हैं. इसलिए मैंने गति में बदलाव के साथ कुछ स्पेशल एरिया में वह अटैक करते हैं, वहां मैंने गेंदबाजी नहीं की.

मुंबई को 10 विकेट से हराने में अहम भूमिका निभाने वाले इस गेंदबाज ने मैक्ग्रा को दिया अपनी सफलता का श्रेय 1

इसने पृथ्वी के खिलाफ अच्छा काम किया. लेकिन जब रहाणे क्रीच पर आए, तो जैसा कि आप सभी जानते हैं कि उन्हें दुनिया के सर्वश्रेष्ठ टेस्ट बल्लेबाजों में से एक माना जाता है.

वह भारत की नंबर 3 और भारतीय टेस्ट टीम के उप कप्तान हैं. मैं सही एरिया में गेंदबाजी करता था और चाहता था कि वह आउट ऑफ स्टंप की पारियां खेलें. मेरे पास रहाणे और पृथ्वी शॉ को आउट करने के लिए योजना थी.

कोच और कप्तान करते हैं मदद

हिमांशु ने अपने प्रदर्शऩ का श्रेय कप्तान और कोच को देते हुए कहा,

मेरे कोच हरविंदर सिंह सर और कप्तान कर्ण शर्मा ने मेरी काफी मदद की है. वे मेरे साथ बैठते हैं और योजना बनाते हैं. उन योजनाओं ने हमारे लिए काफी अच्छा काम किया है. मेरी राय में, हमारा गेंदबाजी आक्रमण शीर्ष टीमों के खिलाफ चमत्कार करने में सक्षम है.

मुंबई और यूपी के खिलाफ हमारे मैच इसके उदाहरण हैं. मुझे अपने साथी तेज गेंदबाज टी प्रदीप का भरपूर समर्थन मिल रहा है. वह एक प्रतिभाशाली गेंदबाज हैं.

41 बार की चैंपियन मुंबई ने 10 मैच से हारा था मैच

हिमांशु सांगवान

मुंबई के घरेलू मैदान वानखेड़े स्टेडियम में रेलवे के खिलाफ खेले गए मैच में मेजबान टीम को 10 विकेट्स से हार का सामना करना पड़ा था. इस मैच में मुंबई की टीम टॉस हारकर पहले बल्लेबाजी करते हुए 114 रन पर ऑलआउट हो गई. जवाब में रेलवे के कप्तान कर्ण शर्मा की 112 रन की शतकीय और अरिंदम घोष की 72 रन की अहम पारी की मदद से टीम ने 266 रन बनाए.

दूसरी पारी में भी मुंबई की टीम 198 पर ही ऑलआउट हो गई. इसमें कप्तान सूर्य कुमार यादव ने 65 रन की अर्धशतकीय पारी खेली. रेलवे ने मात्र  47 रन  बनाकर आराम से जीत अपने नाम कर ली. इस मैच में रेलवे के तेज गेंदबाज हिमांशु सागवान ने पृथ्वी शॉ, अजिंक्य रहाणे सहित 6 विकेट चटकाए थे.