सलाहकार समिति चाहती थी कि रवि शास्त्री बने बल्लेबाजी कोच | Sportzwiki Hindi

Trending News

Blog Post

क्रिकेट

सलाहकार समिति चाहती थी कि रवि शास्त्री बने बल्लेबाजी कोच 

सलाहकार समिति चाहती थी कि रवि शास्त्री बने बल्लेबाजी कोच

भारतीय महान स्पिन गेंद अनिल कुंबले को प्रमुख कोच बनायें जाने के साथ क्रिकेट सलाहकार समिति ने रवि शास्त्री को बल्लेबाजी कोच बनाये जाने की सिफारिश की थी.

समिति में शामिल सचिन तेंदुलकर, सौरव गांगुली, वीवीएस लक्ष्मण और संजय जगदाले को भारतीय टीम के कोच के चयन की जिम्मेदारी मिली थी. अंत में कप्तान विराट कोहली के सहयोग से अनिल कुंबले को टीम का कोच नियुक्त किया गया.

भारत के पूर्व आल-राउंडर रवि शास्त्री, इस वर्ष हुए टी-ट्वेंटी विश्वकप तक भारतीय टीम के साथ डायरेक्टर के रूप में जुड़े हुए थे. बीसीसीआई के कोच के विज्ञापन के बाद रवि शास्त्री ने कोच पद के लिए अपनी दावेदारी पेश की थी, और 21 जून को कोलकाता के ताज होटल में विडियो कांफ्रेंस के जरिये इंटरव्यू दिया था.

मुख्य कोच के रेस में कुम्‍बले और टॉम मूडी कोच बनने की दावेदारी में सबसे आगे थे और शास्‍त्री पीछे रह गए थे, लेकिन कमेटी शास्‍त्री को बैटिंग कोच बनाना चाहती थी.

बीसीसीआई सचिव अजय शिर्के ने कहा यह काफी लंबी मीटिंग थी और सात-आठ घंटे तक चली. कई आइडिया आए. हां, पैनल ने शास्‍त्री के नाम की बैटिंग कोच के लिए सिफारिश की थी, इस पर मैंने दखल दिया, कमेटी को केवल मुख्‍य कोच चुनने का काम ही दिया गया था. मैंने उन्‍हें यह बात याद दिलाई”

आगे शिर्के ने कहा “हमने फैसला किया था कि सभी प्रोफेशनल खेलों के तरह मुख्‍य कोच अपना सपोर्ट स्‍टाफ खुद तय करेगा,  बीसीसीआई पारदर्शिता चाहता है”.

इंटरव्‍यू के दौरान सौरव गांगुली क्रिकेट एसोसिएशन ऑफ बंगाल की किसी मीटिंग में शामिल होने के लिए गए हुए थे और इसी वजह से वे इंटरव्‍यू लेने नहीं पहुंचे थे.

बीसीसीआई के अनुसार भारतीय टेस्ट टीम के कप्तान विराट कोहली के सहयोग से अनिल कुंबले कोच नियुक्त किया गए.

बीसीसीआई ने कहा “कोहली के सहयोग के बाद कुम्‍बले का नाम तय हुआ. कुम्‍बले और मूडी दोनों ने शानदार इंटरव्यू दिया था, मूडी कोच पद के ज्‍यादा गंभीर विकल्‍प लग रहे थे, लेकिन कोहली कुम्‍बले को चाहते थे ताकि विदेशों में स्पिनर्स के प्रदर्शन को सुधारा जा सके. कोहली का मानना था कुम्‍बले इसमें अहम भूमिका अदा कर सकते हैं.

भारतीय स्पिन गेंदबाजी के प्रदर्शन में सुधार की जरुरत है, उपमहाद्वीप के बाहर भारत ने पिछले 5 वर्षो में 15 टेस्ट मैच हारे हैं. आईसीसी रैंकिंग में 2015 में पहले पायदान पर रहे आश्विन के रिकॉर्ड एशिया के बाहर बेहद साधारण रहा हैं. पिछले 5 वर्षो में आश्विन ने 10 टेस्ट मैचो में केवल 29 विकेट हासिल किये हैं.

इस वर्ष के शुरुआत में कोहली ने शास्त्री को टीम से जुड़े रहने को मांग की थी.

भारत के टेस्ट कप्तान विराट कोहली ने कहा था कि “रवि शास्त्री जितना ज्यादा टीम के साथ जुड़े रहेगे, टीम के लिए उतना ही फायदेमंद साबित होगा. शास्त्री टीम के सभी खिलाड़ियों में आत्मविश्वास बनायें रखते हैं. हमारी युवा टीम है, हमे एक ऐसे इंसान की जरुरत है जो यह कर सके”.

कोहली रवि शास्त्री को कोच बनायें जाने का समर्थन कर चुके है लेकिन क्रिकेट सलाहकार ने विराट कोहली के सामने अनिल कुंबले और टॉम मूडी का विकल्प रखा, जिसमे से कोहली ने कुंबले को चुना.

Related posts