इंग्लैंड के इस खिलाड़ी ने किया दावा, तोड़ेगा सचिन का टेस्ट रिकॉर्ड | Sportzwiki Hindi

Trending News

Blog Post

क्रिकेट

इंग्लैंड के इस खिलाड़ी ने किया दावा, तोड़ेगा सचिन का टेस्ट रिकॉर्ड 

इंग्लैंड के इस खिलाड़ी ने किया दावा, तोड़ेगा सचिन का टेस्ट रिकॉर्ड

एक खिलाड़ी के लिए उसका जीवन आसान नहीं होता. जैसे जैसे खिलाड़ी प्रसिद्ध होता रहता हैं वैसे वैसे उसके लिए भागदौड़ और बढ़ जाती हैं. वैसा ही कुछ एलिस्टर कुक ने कहा हैं. एलिस्टर कुक ने कहा, कि

“मैं इंग्लैंड के लिए अपना रिकॉर्ड ब्रेकिंग करियर छोड़ना नहीं चाहता, लेकिन आगें चलकर परिवार के लिए ज्यादा समय देना भी मेरे लिए महत्वपूर्ण होगा.”

बांग्लादेश के खिलाफ शुरू होने वाले टेस्ट सीरीज के पहले टेस्ट मैच में एलिस्टर कुक इंग्लैंड के लिए सबसे ज्यादा टेस्ट मैच खेलने वाले खिलाड़ी बन जाएंगे. एलिस्टर कुक अपना 134वां टेस्ट मैच खेलेंगे.

यह भी पढ़े : इन कारणों से सचिन से बेहतर खिलाड़ी थे जैक कालिस

एलिस्टर कुक ने इंग्लैंड के लिए पहले ही 133 टेस्ट मैच खेल लिए हैं, और टेस्ट क्रिकेट में 10 हजार रन बनाने वाले पहले बल्लेबाज हैं. अब ऐसी भी चर्चा हो रहीं हैं, कि एलिस्टर कुक अपने करियर के अंत तक सचिन तेंदुलकर का सबसे ज्यादा 200 टेस्ट मैच खेलने का रिकॉर्ड तोड़ देंगे. कई लोगों को ऐसा भी लगता हैं, कि एलिस्टर कुक सचिन तेंदुलकर के सबसे ज्यादा टेस्ट रनों के रिकॉर्ड को भी तोड़ देंगे.

अपने दुसरे बच्चें के जन्म  के 2 दिनों बाद एलिस्टर कुक बांग्लादेश के लिए रवाना हुए. एलिस्टर कुक ने कहा कि,

“हम आज कल काफी टेस्ट मैच खेल रहें हैं तो मैं सचिन तेंदुलकर का सबसे ज्यादा टेस्ट मैच खेलने का रिकॉर्ड तोड़ सकता हूं. 70 टेस्ट मैच अभी काफी दूर हैं, और मुझे आगें परिवार को भी देखना होगा.”

इंग्लैंड हर साल ज्यादा टेस्ट मैच खेलता हैं. अगले 12 महिनों में इंग्लैंड कुल 14 टेस्ट मैच खेलेगा.

दिसंबर के अंत से अगले साल जून तक कुक को आराम ही मिलेगा, क्योंकि इंग्लैंड चैंपियंस ट्रॉफी को देखते हुए वनडे मैच खेलेगा.

2015 वनडे विश्वकप के बाद से कुक को वनडे कप्तानी और वनडे टीम से हटाया गया था.

कुक ने कहा, कि “अब मुझे काफी आराम मिलता हैं. मैं टेस्ट पर पुरी तरह ध्यान दे पाता हूं, और मुझे ये मानसिक तौर पर फिट रखता हैं.”

यह भी पढ़े : सचिन तेंदुलकर का सबसे बड़ा रिकॉर्ड तोड़ने से बस 2 कदम दूर विराट कोहली

कुक ने आखिर में कहा, कि जब मैनें 2006 में पदार्पण किया था तब मैनें ये नहीं सोचा था, कि मैं इंग्लैंड के लिए आगें चलकर सबसे ज्यादा टेस्ट मैच खेलूंगा. ये मेरे लिए गर्व की बात हैं. और मैं ये कभी नहीं भूलूंगा.

Related posts