कोलकाता में 2001 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ दादा की दादागिरी

SAGAR MHATRE / 31 July 2015

ये ऐसा टेस्ट था जिसने भारतीय क्रिकेट को बदल डाला. इस टेस्ट में काफी रिकॉर्ड बने थे. ये बॉर्डर गावस्कर ट्रॉफी का दुसरा टेस्ट था, और पहला टेस्ट भारत मुंबई में हारा था. ये अॉस्ट्रेलिया की सबसे मजबूत टीम थी. सबको लग रहा था कि, अॉस्ट्रेलिया भारत को बुरी तरह हरा देगा, लेकिन ये टेस्ट भारत ने जीता और कैसे देखे.

पहले दिन अॉस्ट्रेलिया की शुरूआत अच्छी रहीं, लेकिन बाद में विकटों की झडी लग गयी, और हरभजन सिंह ने हैट्रिक ली. स्टिव वॉ ने अपना भारतीय जमीं पर पहला शतक लगाया. और भारत को फॉलो अॉन मिला. लेकिन भारत ने लक्ष्मण के 281 रन की बदौलत 7 विकेट पर 657 रन बनाकर पारी घोषित की. और ये टेस्ट मैच जीत लिया और सीरीज भी 2-1 से जीती.

लेकिन मजेदार बात ये थी की, दोनों टीमों के कप्तानों के बीच मैदान में कहासुनी हुई थी. और ये गांगुली ने एक इंटरव्यू में बताया है.

गांगुली ने कहा, कि पांचवें दिन जो कुछ हुआ था वो मै सबके सामने नहीं बता सकता. भारतीय टीम उस वक्त जुनून से खेल रहीं थी. और हम फिर जिंबाब्वे गये और वहा भी सीरीज जीती.

लेकिन इस इंटरव्यू में गांगुली ने स्टिव वॉ के साथ हुई कहासुनी के बारें में बताया है. उन्होंने कहा, मैनें जो बोला था वहीं हुआ और स्टिव वॉ को ड्रेसिंग रुम में जाना पडा. दादा की दादागिरी के बारें जाने यहा.

Related Topics