/

रैना के बयान पर धोनी का पलटवार कड़े शब्दों में दिया रैना के आरोप का जवाब

हाल ही में विराट स्टार क्रिकेटर सुरेश रैना स्पोर्ट्स एंकर गौरव कपूर के चैट शो ब्रेकफ़ास्ट विथ चैंपियंस में नजर आए. जहाँ उन्होंने भारतीय क्रिकेट टीम के ड्रेसिंग रूम के कई राज खोले.  सुरेश रैना ने पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी के बारे में भी खुलासा किया. उन्होंने बताया कि धोनी कैमरे के सामने गुस्सा नहीं करते लेकिन कैमरा हटते ही वो डांटते हैं. रैना के इस खुलासे पर अब एम एस धोनी ने अपनी प्रतिक्रिया दी है.

जेसीसी
बनना चाहते हैं प्रोफेशनल क्रिकेटर?
अभी करें रजिस्टर

*T&C Apply

मैं नहीं करता मैदान पर मजाक-

रैना के बयान पर धोनी का पलटवार कड़े शब्दों में दिया रैना के आरोप का जवाब 1

जम्मू-कश्मीर में भारतीय सेना के एक कार्यक्रम में उन्होंने कहा मैं मैदान पर ज्यादा मज़ाक नहीं करता, लेकिन ड्रेसिंग रूम में मैं काफी एन्जॉय करता हूं. मैं अपने आप को उस प्रकार से मैनेज कर लेता हूं, जिस प्रकार मैं सोचता हूं. धोनी बोले कि मैदान पर आप एक अगल ज़ोन में होते हैं.

बता दें कि इस शो में सुरेश रैना ने पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी की एक पुरानी बात का खुलासा करते हुए बताया है कि एक बार माही ने उनसे पाकिस्तान के बल्लेबाज उमर अकमल को स्लेजिंग करने के लिए कहा था.

धोनी ने कहा, और उकसा इसे-

रैना के बयान पर धोनी का पलटवार कड़े शब्दों में दिया रैना के आरोप का जवाब 2

दरअसल भारत और पाकिस्तान के बीच एक मैच में उम्र अकमल बल्लेबाजी कर रहे थे और रैना पास में ही फील्डिंग कर रहे थे. उम्र अकमल ने रैना की शिकायत करते हुए कहा, धोनी भाई देखिये रैना गाली दे रहा है. इस पर धोनी ने मुझे अपने पास बुलाया और कहा क्या कर रहा है. मैंने कहा, कुछ नही, मैं सिर्फ अकमल पर दबाव बनाने की कोशिश कर रहा था. इसके बाद धोनी ने मुझसे कहा कि उसे और उकसाओ और दबाव डालो.

पाकिस्तान पर भी दिया धोनी ने बयान-

रैना के बयान पर धोनी का पलटवार कड़े शब्दों में दिया रैना के आरोप का जवाब 3

धोनी और रैना बहुत अच्छे दोस्त हैं. धोनी जब कप्तान थे उस दौरान, रैना टीम का प्रमुख हिस्सा रहते थे. रैना चेन्नई सुपर किंग्स टीम में भी धोनी के साथ रहे. धोनी इन दिनों सेना के कैम्प जम्मू एंड कश्मीर का दौरा कर रहे हैं. उन्होंने पाकिस्तान के साथ क्रिकेट संबंधों पर बयान दिया. उन्होंने कहा, पाकिस्तान के साथ सीरीज क्रिकेट से बहुत बढ़ कर है, इसलिए इस मुद्दे पर सरकार को फैसला करना है.