शुभमन गिल ने सचिन, विराट, युवराज और राहुल द्रविड़ से सीखे हैं क्रिकेट के यह गुर

Trending News

Blog Post

क्रिकेट

शुभमन गिल ने इस खिलाड़ी को बताया आदर्श, कहा सिर्फ आदर्श मानता हूँ उन्हें कॉपी नहीं करता 

शुभमन गिल ने इस खिलाड़ी को बताया आदर्श, कहा सिर्फ आदर्श मानता हूँ उन्हें कॉपी नहीं करता

दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ 3 मैचों की टेस्ट सीरीज के लिए भारतीय टीम में युवा बल्लेबाज शुभमन गिल को जगह मिली है. करीब दो साल से लगातार फॉर्म से जुझ रहे केएल राहुल को टीम से बाहर कर दिया गया है. उनकी जगह ही शुभमन गिल को पहली बार भारतीय टेस्ट टीम में शामिल किया गया है. 7 वर्ष की उम्र में ही इस खिलाड़ी को क्रिकेट का जूनून हो गया था, इसके बाद से इसने कई खिलाड़ियों को अपना रोल मॉडल बनाया, लेकिन किसी को कॉपी करने की कभी कोशिश नहीं की है.

शुभमन गिल ने इस खिलाड़ी को बताया आदर्श, कहा सिर्फ आदर्श मानता हूँ उन्हें कॉपी नहीं करता 1

शुभमन गिल ने विराट कोहली और सचिन तेंदुलकर से सीखे हैं यह गुर

शुभमन गिल

2007 का विश्व कप देख शुभमन गिल ने क्रिकेट  को अपना जूनून बना लिया था, इस मैच में सचिन  का स्ट्रैट शॉट उनके लिए प्रेरणा बन गया था. शुभमन ने बताया था कि उस समय पर उनको बहुत कुछ याद नहीं था, लेकिन वह कभी भी सचिन के उस शॉट को भूल नहीं पाए, वही से उन्होंने अपने करियर की शुरुआत की थी.

वही जैसे जैसे शुभमन बढ़ते गए और क्रिकेट का सफ़र बढ़ता गया वैसे ही उनके कवर ड्राइव की स्टाइल विराट कोहली की तरह हो गया. शुभमन गिल ने आगे कहा कि,

“मेरे पास मेरे रोल मॉडल्स हैं, मैं विराट भईया से उनकी स्किल्स सीखता हूँ, मैं जानता हूँ कि हर खिलाड़ी अलग होता है ऐसे में मैं किसी को भी पूरा कॉपी नहीं करता हूँ. मैं जानता हूँ कि मैं भी पहली गेंद पर आते ही बड़ा शॉट खेल सकता हूँ, लेकिन मैं लंबी पारियां खेलना भी जानता हूँ, यह सब शॉट्स खेलना मैच के हालतों पर निर्भर करता है.”

युवराज सिंह और राहुल द्रविड़ को देते हैं श्रेय

शुभमन गिल ने इस खिलाड़ी को बताया आदर्श, कहा सिर्फ आदर्श मानता हूँ उन्हें कॉपी नहीं करता 2

इसके बाद शुभमन ने बताया कि कैसे 17 वर्ष की उम्र के बाद उनके अंदर क्रिकेट को लेकर और बदलाव आया, जिस समय शुभमन को पंजाब की टीम से खलेने का मौका मिला उस समय उनकी मुलाकात 2007 विश्व कप के हीरो हरभजन सिंह और युवराज सिंह से हुई, जिनसे गिल को बहुत कुछ सीखने को मिला था.

“उनसे मिलने के बाद मैं, ज्यादा उत्सुक नहीं होना चाहता था, उन लोगों ने मेरी बहुत मदद की, यूवी पाजी मेरे प्रेरणास्त्रोत हैं, उनका क्रिकेट करियर, उनकी बीमारी से उभरने का जज्बा, और खेल के लिए उनका दृष्टिकोण यह सब मेरे लिए एक शानदार खिलाड़ी बनने के लिए प्रेरणादायक है.”

वही राहुल द्रविड़ पिछले दो साल से शुभमन के साथ है, गिल की पर्सनालिटी डेवलपमेंट से लेकर उनके क्रिकेट ट्रिक्स में सुधार का पूरा श्रेय राहुल द्रविड़ को जाता है. शुभमन ने आगे कहा कि,

“राहुल सर ने हमेशा से मुझे एक अच्छा इंसान बनाने की कोशिश की है. मैं अभी तक अपना क्लास 12 का एग्जाम नहीं दे पाया, क्योंकि मैं क्रिकेट में उलझा था, लेकिन मैं चाहता हूँ कि मैं अपनी बेसिक शिक्षा पूरी कर लूँ.”

 

Related posts