परिस्थति के हिसाब से नहीं बदलती मेरी बल्लेबाजी : रहाणे 1

किंग्सटन (जमैका), 2 अगस्त (आईएएनएस)| वेस्टइंडीज के खिलाफ जारी दूसरे टेस्ट मैच में अपने करियर का सातवां शतक जड़ने वाले भारतीय टेस्ट टीम के उप-कप्तान अंजिक्य रहाणे ने कहा है, कि चाहे घर में खेलें या विदेश में, वह हमेशा अपने तरीक से ही बल्लेबाजी का अभ्यास करते हैं।

मैच के तीसरे दिन रहाणे 108 रनों पर नाबाद लौटे। उनकी इस पारी के कारण भारतीय टीम सबीना पार्क मैदान पर खेले जा रहे मैच में वेस्टइंडीज के खिलाफ 304 रनों की बढ़त हासिल करने में कामयाब रही।

भारतीय टीम ने अपनी पहली पारी नौ विकेट के नुकसान पर 500 रनों पर घोषित कर दी थी। भारी बारिश के कारण दिन का खेल जल्दी खत्म कर दिया गया था।

दिन का खेल खत्म होने के बाद रहाणे ने संवाददाता सम्मेलन में कहा,

परिस्थति के हिसाब से नहीं बदलती मेरी बल्लेबाजी : रहाणे 2

“मैं पहले टेस्ट में जिस तरह आउट हुआ उससे काफी निराश था, लेकिन मैं चाहे भारत में खेलूं या विदेश में मेरे लिए महत्वपूर्ण है कि मैं अपनी तैयारी और प्रक्रिया पर ध्यान दूं।”

उन्होंने कहा,

“मैंने कभी शतक लगाने के बारे में नहीं सोचा। मेरा मानना है कि मैं जब तक अपनी तैयारी करता रहूंगा तब तक मैं सही प्रदर्शन करुं गा। छोटी चीजें मेरे लिए काफी महत्वपूर्ण होती हैं।”

रहाणे ने अपनी शतकीय पारी में 237 गेंदों का सामना किया और 13 चौकों के साथ तीन छक्के भी लगाए।

मुंबई के इस बल्लेबाज ने बताया कि टीम की रणनीति एक बार बल्लेबाजी करने की थी और यह कामयाब भी रही।

रहाणे ने कहा,

“सुबह हम सामान्य क्रिकेट खेलना चहाते थे। दुर्भाग्यवश रिद्धीमान साहा लंच से पहले आउट हो गए। साझेदारी हमारे लिए काफी जरूरी थी। हमारी रणनीति एक बार और लंबी बल्लेबाजी करने की थी और हमने यह किया।”