मैं भारत के लिए खेलना चाहता हूँ – “हरभजन सिंह”

2013 में आखिरी बार “हरभजन सिंह” ने टेस्ट मैच में भागेदारी निभाई थी और आज चार साल हो गए हैं उन्हें एक दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय श्रृंखला खेले हुए. हरभजन भारत की टीम के लिए खेलने को उतारु हैं.

2011 विश्व कप जीत के बाद हरभजन एक दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय श्रृंखला के लिए वेस्ट इंडीज चले गए. वह उन्होंने तीन मैच खेले जिसमे 4 विकेट लिए. वहीं 2012 में वो भारतीय टी 20 विश्व कप में शामिल हुए . बस अब इसके बाद उनका क्रिकेट करियर कुछ खास नही दिखा.

समय बीतता गया, प्रतिस्पर्धा बढ़ती गयी और नए सितारों के बीच हरभजन गुम से होने लगे. लेकिन उनकी नीली जर्सी पहनकर भारत की टीम में शामिल होने की बेहद इच्छा है . हरभजन ने कहा कि-

“मैं भारतीय टीम के लिए खेलना चाहता हूँ, ऐसा एक दिन नहीं जाता जिस दिन मेरे दिमाग में ये ख्याल न आता हो. भारत के लिए खेलना मेरे लिए संतोषजनक बात है और इससे मुझे प्रेरणा मिलती है.”

भज्जी ने अब तक टेस्ट मैचों में 413 विकेट लिए हैं और एक दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय श्रृंखला में 259 विकेट.

भज्जी न कहा कि – “2013 में जब मुंबई इंडियंस ने जीत हासिल की थी तब मैंने 24 विकेट झटके थे. और इससे पहले साल में 14 विकेट लिए थे . अब इस बार भी मैंने बेहतरीन गेंदबाज़ी करते हुए 16 विकेट गिराये हैं. मैं अपनी तरफ से अच्छा करने का प्रयास करता हूँ और उम्मीद करता हूँ कि मैं टेस्ट मैचों में वापसी कर सकूँ .”

हरभजन में सिर्फ गेंदबाज़ी करने की ही क़ाबलियत नहीं है बल्कि वह बल्ला भी चलना खूब जानते हैं. कुछ हफ्ते पहले वानखेड़े स्टेडियम में चेन्नई सुपर किंग्स के खिलाफ हुए मैच में हरभजन ने 19 गेंदों पर अर्धशतक लगाया था.

हरभजन एक ऐसे गेंदबाज हैं जो योजना बनाते हैं फिर उस पर कार्य करते हैं, वे गेंदबाज़ी की कमियों को जानते हैं और हमेशा चुनौतियों के लिए तैयार रहते हैं.

 

Related Topics