इयान बेल

साल 2011 में भारत और इंग्लैंड के बीच नॉटिंघम में खेले गए तीसरे टेस्ट मैच में इयान बेल (Ian Bell) के रन आउट को लेकर बड़ा विवाद खड़ा हो गया था. इंग्लैंड के खिलाफ उस टेस्ट मैच में कप्तानी करने वाले महेंद्र सिंह धोनी (MS Dhoni) ने तब इयान बेल को अजीब हालात में रन आउट होने के बाद वापस बुलाया था.

इसके बाद उस वाक़ये को लेकर क्रिकेट जगत में तमाम एक्सपर्ट्स ने अपनी-अपनी राय दी थी. लेकिन अब इस पूरी घटना को लेकर पूर्व सीनियर इंग्लिश बल्लेबाज़ इयान बेल ने अब 10 साल बाद अपनी चुप्पी तोड़ते हुए पूर्व भारतीय कप्तान धोनी को लेकर बड़ा बयान दिया है.

इयान बेल ने मानी अपनी गलती

इयान बेल

इयान बेल ने एक यूट्यूब चैनल पर कहा,

“यह मेरी गलती थी और मुझे पवेलियन की तरफ नहीं जाना चाहिए था. निश्चित रूप से महेंद्र सिंह धोनी को इसके लिए खेल भावना के लिए दशक का अवॉर्ड जैसा सम्मान दिया गया था, लेकिन गलती मेरी थी और मुझे ऐसा नहीं करना था.”

बता दें कि धोनी को इसके लिए 10 साल बाद डेकेट का Spirit Of The Game का अवॉर्ड दिया गया.

दरअसल, उस टेस्ट में लंच से ठीक पहले जब अंपायर ने इयान बेल को आउट दिया उसके बाद इंग्लिश दर्शक काफ़ी नाराज हो गए थे उन्होंने धोनी के खिलाफ अभद्र भाषा का भी प्रयोग किया था. लेकिन लंच के बाद जब बेल धोनी के बुलावे पर जब दोबारा बल्लेबाजी करने आए तो इंग्लैंड के दर्शकों को काफी शर्मिंदगी महसूस हुई सभी ने ताली बजाकर धोनी की खेल भावना को सलाम किया था.

आखिर क्या है इस पूरे विवाद की कहानी

 इयान बेल

जुलाई 2011 में भारत और इंग्लैंड के बीच नॉटिंघम में खेले गए तीसरे टेस्ट मैच में इयान बेल (Ian Bell) के रन आउट को लेकर बड़ा विवाद खड़ा हो गया था. नॉटिंघम (Nottingham) टेस्ट के तीसरे दिन इयोन मोर्गन के साथ इयान बेल क्रीज पर जमे हुए थे. टी ब्रेक से पहले आखिरी गेंद पर मोर्गन ने एक शॉट खेला और उनके साथ बल्लेबाजी कर रहे इयान बेल इसे चौका समझ बैठे.

इयान बेल गलतफहमी में अपनी क्रीज को छोड़कर मोर्गन से बात करने लगे, लेकिन गेंद बाउंड्री लाइन से पहले ही प्रवीण कुमार ने पकड़कर अभिनव मुकुंद की तरफ थ्रो कर दी. मुकुंद ने गिल्लियां बिखेर दीं, जिसके बाद भारतीय टीम की अपील पर थर्ड अंपायर ने इयान बेल को रनआउट दे दिया.