आईसीसी

10 जून को आईसीसी ने मीटिंग की थी लेकिन उस मीटिंग में कोई बड़ा फैसला नहीं लिया जा सका। अब गुरुवार को एक बार फिर आईसीसी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए मीटिंग की थी। इस मीटिंग में आईसीसी के नए चेयरमैन के चुनाव को लेकर होने वाले चुनाव का एजेंडा होगा। हालांकि मीटिंग से पहले ही रिपोर्ट्स आनी शुरु हो गई हैं कि ईसीबी के चेयरमैन आईसीसी चेयरमैन पद के प्रबल दावेदार हो सकते हैं।

चुनाव की तारीख को लेकर अभी भी नहीं कुछ तय

आईसीसी

कोरोना वायरस की वजह से पिछले 3 महीनों से क्रिकेट कार्यक्रमों पर विराम लगा हुआ है। इस महामारी के बीच आईसीसी चेयरमैन शशांक मनोहर का कार्यकाल भी समाप्त हो रहा है। नए चेयरमैन की नियुक्ती होनी है जिसके लिए इलेक्शन भी होने हैं।

अब जबकि गुरुवार को आईसीसी मीटिंग करेगा तो जाहिर है कि आईसीसी चेयरमैन के चुनाव की तारीखें सामने आ सकती हैं। इस मामले की जानकारी रखने वाले आईसीसी बोर्ड के सदस्य ने नाम जाहिर नहीं करने की शर्त पर पीटीआई को बताया,

‘‘मैं अब भी तय नहीं हूं कि चुनाव (या चयन) की तारीख की कल घोषणा होगी या नहीं। बेशक मुख्य एजेंडा शशांक मनोहर के विकल्प की नामांकन प्रक्रिया पर चर्चा होगी। बेशक सदस्य बैठक करेंगे तो वे बोर्ड को अपने-अपने देश में स्थिति की जानकारी देंगे। हालांकि किसी ठोस घोषणा की उम्मीद नहीं है।”

ईसीबी के पूर्व चेयरमैन रेस में आगे

आईसीसी के चेयरमैन बनने के लिए मानो रेस शुरु हो गई है। हालांकि अभी तक चुनाव की तारीखें सामने नहीं आई हैं। मगर रिपोर्ट्स की मानें तो इंग्लैंड एंड वेल्स क्रिकेट बोर्ड के पूर्व चेयरमैन कोलिन ग्रेव्स वैश्विक संस्था के चेयरमैन के रूप में मनोहर की जगह लेने की रेस में सबसे आगे नजर आ रहे हैं। लेकिन बीसीसीआई अध्यक्ष सौरव गांगुली की दावेदारी को भी नजरअंदाज नहीं किया जा सकता।

मगर अभी सौरव गांगुली के मामले में बात अटकी हुई है। क्योंकि बीसीसीआई के नियमानुसार 5 साल के कार्यकाल के पूरे होने के बाद अधिकारी को 3 साल के कूलिंग पीरियड में जाना होता है। हालांकि बोर्ड ने कोर्ट में अर्जी डाली है कि गांगुली और सचिव जय शाह को छह साल के बाद पद से अनिवार्य ब्रेक के नियम से छूट दी जाए।

सौरव गांगुली ने नहीं की है पुष्टि

आईसीसी

भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान सौरव गांगुली ने अक्टूबर 2019 को बीसीसीआई अध्यक्ष पद को संभाला था। तब से वह भारतीय क्रिकेट के लिए काम कर रहे हैं लेकिन लगातार खबरें आ रही थी कि वह आईसीसी के प्रेसिडेंट बन सकते हैं। हालांकि अब बीसीसीआई के एक सूत्र ने कहा,

‘‘हमें अब तक नहीं पता कि सौरव गांगुली की राजनीतिक इच्छाएं हैं या नहीं। अगर ऐसा होता है तो वह एक साल के लिए आईसीसी चेयरमैन बन सकते हैं और इसके बाद 2021 में पश्चिम बंगाल चुनाव में भारतीय जनता पार्टी के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार हो सकते हैं। ’’