आईसीसी

साल 2019 में हुए वर्ल्ड कप के बाद वनडे मैच की गिरती हुई संख्या और टी-20 की  उभरती हुई संख्या को देखते हुए आईसीसी ने एक प्रेस विज्ञाप्ति जारी की जिसमें उन्होंने बताया कि वर्ल्ड कप के दौरान भारत और पाकिस्तान के बीच हुए मैच दुनिया में सबसे ज्यादा लोगों ने देखा। वहीं आईसीसी ने हाल ही में एफटीपी जारी की। उनके इस एफटीपी पर लोगों ने सवाल खड़े किए कि आखिर क्या कारण है कि वनडे मैचों की संख्या लगातार कम हो रही है और टी-20 मैचों की संख्या लगातार बढ़ रही है।

आईसीसी ने जारी किया एफटीपी

आईसीसी

आईसीसी ने अभी हाल ही में एक एफटीपी जारी कि जिसमें उन्होंने साल 2022 तक होने वाले क्रिकेट का फ्यूचर टूर्स प्रोग्राम जारी किया। जिसमें किसी भी द्विपक्षीय श्रृंखला में तीन से अधिक वनडे मैच नहीं है, वहीं इसी एफटीपी मैच में टी-20 मैचों की भरमार हैं। जिसके देखते हुए लोगों ने वनडे के भविष्य पर सवाल उठाते हुए कहा कि क्या कारण है कि लगातार वनडे मैचों की संख्या कम होती जा रही और टी-20 मैचों की मुठभेड़ों की संख्या बढ़ाया जा रहा है।

वनडे मैचों की घटती संख्या और टी-20 की बढ़ती मैच संख्या का आईसीसी ने बताया कारण 1

वनडे मैचों की गिरती हुई संख्या पर आईसीसी के एक सूत्र ने बताई यह बात

आईसीसी

आईसीसी के एक सूत्र ने टीओआई को बताया  “द्विपक्षीय श्रृंखला पूरी तरह से दो प्रतिभागी बोर्ड द्वारा आयोजित की जाती हैं। आईसीसी ने कम वनडे खेलने का कोई निर्देश नहीं दिया है। लेकिन हां, टी 20 क्रिकेट को बढ़ावा देने के लिए चर्चा हुई है।

 

आईसीसी

उन्होंने बताया कि ICC अपने संसाधनों से T20 को क्रिकेट के ब्रांड के रूप में प्रचारित करने और टेस्ट को पुनर्जीवित करने में लगा हुआ । हम 2023 विश्व कप से एक साल पहले एकदिवसीय प्रारूप के पुनरुत्थान को देख सकते हैं। आईसीसी द्विपक्षीय श्रृंखला में हस्तक्षेप नहीं करता है, लेकिन दुनिया की घटनाओं के लिए योग्यता प्रणाली की शुरुआत के साथ, आईसीसी न्यूनतम गेम खेलने के लिए कुछ सुझाव जरूर देता है।

One reply on “वनडे मैचों की घटती संख्या और टी-20 की बढ़ती मैच संख्या का आईसीसी ने बताया कारण”