आईसीसी
Prev1 of 3
Use your ← → (arrow) keys to browse

भारतीय टीम ने 2013 में महेंद्र सिंह धोनी के कप्तानी में आखिरी बार कोई आईसीसी ट्रॉफी भी जीती थी. उसके बाद से ऐसा नहीं रहा कई टूर्नामेंट में भारतीय टीम ने अच्छी शुरुआत की सेमीफाइनल और फाइनल का सफर तय कर किया लेकिन जीत हासिल नहीं हो पायी.

महेंद्र सिंह धोनी के बाद विराट कोहली के हाथो में कप्तानी आ गयी लेकिन उसके बाद भी भारतीय टीम अच्छी और मजबूत नजर आने के बाद भी ख़िताब अपने नाम नहीं कर पायें. जिसका कारण सभी जानना चाह रहे हैं. जिसकी कई वजह सामने नजर भी आती है.

आज हम आपको उन 3 प्रमुख वजहों के बारें में बताएँगे. जिसके कारण भारतीय टीम 2013 के बाद से कोई भी आईसीसी टूर्नामेंट जीतने में सफल नहीं हो पायी. हालाँकि इसके अलग-अलग टूर्नामेंट में कई वजह रहे लेकिन कुछ वजह ऐसी रही. जो हर टूर्नामेंट में नजर आई.

3. मध्यक्रम का फेल होना

3 कारण क्यों 2013 के बाद आईसीसी टूर्नामेंट नहीं जीत सकी भारतीय टीम 1

जब भारतीय टीम टी20 विश्व कप 2014 का फाइनल खेल रही थी. उस समय युवराज सिंह के फेल होने से भारतीय टीम मजबूत स्थिति में नहीं पहुंची और फाइनल हार गयी. 2015 विश्व कप में और 2016 टी20 विश्व कप में भी कुछ ऐसी ही समस्या नजर आ रही थी.

विराट कोहली के कप्तानी में जब भारतीय टीम ने 2017 चैंपियंस ट्रॉफी में हार मिली तो उस समय भी मध्यक्रम बहुत बुरी तरह से फेल हो गयी. जबकि 2019 विश्व कप में दौरान भी ऐसा रहा. जब भारतीय टीम का मध्यक्रम बुरी तरह से फेल हो गया था और हार का सामना करना पड़ा.

मध्यक्रम का फेल होना जिस तरह से 2013 के बाद बड़े टूर्नामेंट में जारी रहा उसमें एक बड़ी भूमिका भी इसकी नजर आती है. यदि अब भारतीय टीम को कोई आईसीसी टूर्नामेंट जीतना है तो मध्यक्रम को एक बहुत बड़ी भूमिका निभानी होगी और मजबूत होना होगा.

Prev1 of 3
Use your ← → (arrow) keys to browse