अगर कपिल देव नहीं दिलाते विश्वकप में जीत तो आज कुछ ऐसा होता भारतीय क्रिकेट की हालात

sagar mhatre / 02 September 2016

Prev1 of 6
Use your ← → (arrow) keys to browse

जब जब भारतीय क्रिकेट फैन्स 1983 विश्वकप की याद ताजा करते हैं, तब तब उन्हें काफी खुशी होती हैं. 1983 विश्वकप की जीत आज तक भारतीय क्रिकेट इतिहास की सबसे बड़ी जीत हैं.

उस विश्वकप से पहले कोई भी भारतीय टीम को फेवरेट नहीं बोल रहा था, लेकिन भारतीय टीम ने विश्व चैम्पियन वेस्टइंडीज को हराकर विश्वकप जीता.

कपिल देव ने जिंम्बाब्वे के खिलाफ 175 रनों की पारी खेली थी, जो भारत का स्कोर 5 विकेट पर 17 रन था उसके बाद आयी थी.

अगर कपिल देव वो पारी नहीं खेलते तो भारतीय टीम विश्वकप से बाहर हो जाती. BBC के स्ट्राइक के वजह से वो पारी टिवी पर नहीं दिखाई गयी.

फाइनल में वेस्टइंडीज को 183 रनों का लक्ष्य दिया था, और सभीने उम्मीद छोड़ दी थी. लेकिन भारतीय टीम ने कमाल करते हुए वो विश्वकप जीता.

यह भी पढ़े : युवाओं के शानदार प्रदर्शन ने नहीं खलने दी दिग्गजों की कमी : पूर्व भारतीय कप्तान

उसके बाद भारत में क्रिकेट का क्रेज बढ़ा, और हर भारतीय क्रिकेट का दिवाना बन गया.

अब हम आपको बता रहे हैं ऐसी 5 चीजें जो अगर भारत 1983 का विश्वकप नहीं जीतता तो नहीं होती:

Prev1 of 6
Use your ← → (arrow) keys to browse