मैदान पर होने वाली स्लेजिंग को लेकर सहवाग ने दिया बड़ा बयान कहा, रोमांच बनाये रखने के लिए यह सब जरुरी हैं 1
pc: google

मैदान पर स्लेजिंग हमेशा से ही विवाद का विषय रहा हैं. कई क्रिकेट जानकार का मानना है कि जेंटलमैन के इस खेल में इस तरह की कोई भी बात नही होनी चाहिए. वही कई का मानना है कि मैदान पर स्लेजिंग क्रिकेट का ही हिस्सा है. वही भारत के तूफानी बल्लेबाज वीरेन्द्र सहवाग का मानना है कि क्रिकेट के लिए स्लेजिंग बहुत जरूरी हैं. ये क्रिकेट का हिस्सा है.

स्लेजिंग खेल का ही हिस्सा है 

मैदान पर होने वाली स्लेजिंग को लेकर सहवाग ने दिया बड़ा बयान कहा, रोमांच बनाये रखने के लिए यह सब जरुरी हैं 2

मैच के दौरान स्लेजिंग के बारें में बोलते हुए सहवाग ने कहा कि स्लेजिंग मैदान पर खेल का एक अहम हिस्सा हैं, लेकिन खिलाड़ियों को इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि वो अपनी सीमा में रह कर ही स्लेजिंग करें.

वही आगे बोलते हुए उन्होंने कहा कि अगर मैदान पर स्लेजिंग नही होगी तो खेल से रोमांच खत्म हो जाएगा.

मुझे पर भी हुई थी स्लेजिंग 

मैदान पर होने वाली स्लेजिंग को लेकर सहवाग ने दिया बड़ा बयान कहा, रोमांच बनाये रखने के लिए यह सब जरुरी हैं 3

मैदान पर होने वाली स्लेजिंग को लेकर सहवाग ने दिया बड़ा बयान कहा, रोमांच बनाये रखने के लिए यह सब जरुरी हैं 4

खुद पर हुई स्लेजिंग के बारें में बात करते हुए सहवाग ने कहा कि पाकिस्तान के खिलाफ जब मैंने 1999 में क्रिकेट में डेब्यू किया था, तब मुझे लेकर काफी ज्यादा स्लेजिंग की गई थी. उस मैच में मुझे पर की गई स्लेजिंग को मैं कभी भी नही भूल सकता हूँ.

विराट मैदान पर ख़ुशी जताता है 

मैदान पर होने वाली स्लेजिंग को लेकर सहवाग ने दिया बड़ा बयान कहा, रोमांच बनाये रखने के लिए यह सब जरुरी हैं 5

स्लेजिंग के बारें में आगे बोलते हुए उन्होंने कहा कि किसी भी खिलाड़ी को दूसरे खिलाड़ी पर स्लेजिंग उसकी बल्लेबाज़ी, तकनीक और गेंदबाज़ी पर ही स्लेजिंग करनी चाहिए. कभी भी किसी भी खिलाड़ी को पर्सनल चीजों को लेकर कुछ भी नही कहना चाहिए.

वही कोहली की आक्रामकता के बारें में बात करते हुए उन्होंने कहा कि मुझे लगता है ये विराट का ख़ुशी मानने का तरीका है. ये हमेशा वो अपनी ख़ुशी दिखने के लिए ही करता हैं . आप इसे स्लेजिंग नही कह सकते हैं. मुझे लगता है ये कि एक अपनी भावना दिखाने का तरीका हैं. इसमें मुझे कुछ भी गलत नही समझ में आता हैं. लेकिन खिलाड़ियों को इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि वो किसी भी खिलाड़ी की पर्सनल चीजों को लेकर कुछ न कहें.