/

स्पिनर्स के विरुद्ध मैं अपने क़दमों का प्रयोग करूंगा और सकारात्मक रहूँगा: पीटर हैंड्सकोंब

ऑस्ट्रेलिया के 25 वर्षीय मध्यक्रम के बल्लेबाज़ पीटर हैंड्सकोंब ने भारत के चुनौतीपूर्ण आगामी दौरे के दौरान अपनी बल्लेबाजी के लिए एक सकारात्मक दृष्टिकोण का उपयोग जारी रखने की पूरी कोशिश करंगे.

जेसीसी
बनना चाहते हैं प्रोफेशनल क्रिकेटर?
अभी करें रजिस्टर

*T&C Apply

पीटर हैंड्सकोंब ने पिछले साल ऑस्ट्रेलिया के लिए टेस्ट क्रिकेट में शानदार अंदाज़ से पदार्पण किया. पीटर हैंड्सकोंब ने ऑस्ट्रेलिया के लिए अब तक 4 टेस्ट मैचो की 7 पारियों में 99.75 की आसधारण औसत से 399 रन बनायें है, इस दौरान हैंड्सकोंब ने 2 शतक और 2 अर्धशतक भी लगायें हैं. विडियो : OMG! सचिन को शेर जबकि कोहली को लोमड़ी कह गए नजफगढ़ के नवाब

हालाँकि भारतीय के विरुद्ध आगामी 4 टेस्ट मैचो में भारत की घातक स्पिन जोड़ी रविचंद्रन अश्विन और रविंद्र जडेजा के सामने उनकी कड़ी परीक्षा होगी. इससे साथ ही ऑस्ट्रेलिया की टीम एशिया में मिली लगातार 9 हार के सिलसिले को भी तोडना चाहेगी.

उप-महाद्वीप में सीमित अनुभव के बावजूद, हैंड्सकोंब को भरोसा है, कि वह भारत में सफल साबित होगे. गुरूवार(9 फ़रवरी) को दुबई में मीडिया से बात करते हुए हैंड्सकोंब न कहा कि मैंने अच्छा प्रदर्शन करने के लिए एक योजना तैयार की हुई है.

हैंड्सकोंब ने कहा, “स्पिनर्स के विरुद्ध मैं अपने क़दमों का प्रयोग करूंगा और सकारात्मक रहूँगा और जाहिर तौर पर भारत में इस योजना के तहत खेलना होगा.” OMG: इस दिग्गज खिलाड़ी की मात्र 16 साल की बेटी ने पार किया हॉटनेस की सारी हदे, तस्वीरे हो रही है वायरल

युवा बल्लेबाज़ पीटर हैंड्सकोंब ने टेस्ट क्रिकेट में शानदार तरीके से पदार्पण किया, जिसके बाद उन्हें जल्द एकदिवसीय टीम में भी जगह दी. पीटर हैंड्सकोंब का कहना है वर्ष 2015 में भारत का ऑस्ट्रेलिया ए के दौरे का अनुभव उनके बहुत काम आयेगा. हैंड्सकोंब ने वर्ष 2015 में ऑस्ट्रेलिया ए की ओर से खेलते हुए 2 मैचो में 91 रन बनायें थे

हैंड्सकोंब ने कहा, “मैंने सीखा है, कि अपनी ख़ुद की योजना और कौशल को समर्थन करो. विकेट की चिंता ना करो कि विकेट क्या करेगी, विकेट पर उतरते समय अपने उपर विश्वास रखों. बेकफुट पर बल्लेबाज़ी करो और जरुरत पड़े तो स्वीप शॉट का प्रयास करो.” 

हैंड्सकोंब ने कहा, ”गेंद अगर सीधे आये तो खेलने में तकलीफ होती हैं, क्योंकि कई बार विकेट पर गेंदबाजों के फुटमार्क के निशान छाप जाते हैं, इसलिए मैं क़दमों के प्रयोग कर खेलूँगा.”