पाकिस्तान की क्रिकेट शुरू से विश्व भर में बदनाम होती आई है। पाकिस्तान क्रिकेट में हमेशा कोई ना कोई खिलाड़ी मैच फिक्सिंग के आरोप में फंसता आया। पाकिस्तान की क्रिकेट में एक से बढ़कर एक खिलाड़ी हुए हैं, लेकिन उनमें से कुछ खिलाड़ियों ने मैच फिक्सिंग जैसे चीजों में हाथ डालकर अपना करियर तो बर्बाद किया ही साथ में उन्हें अपने घर,समाज, देश, विदेश हर जगह बदनामी का सामना करना पड़ता है।

पाकिस्तान में ऐसे बहुत सारे क्रिकेटर रहे हैं, जिनमें से एक हैं सलिम मलिक। सलिम मलिक पाकिस्तान के लिए 103 टेस्ट मैच खेले थे। 54 साल के सलीम मलिक ने 1982 में अपना पहला मैच खेला था। उसके बाद उन्होंने अपने करियर में काफी रन बनाए और पार्ट टाइम बॉलर के रूप में काफी विकेट भी लिए। इतने लंबे और शानदार करियर के बाद भी उनसे आज कोई बात नहीं करना चाहता। सबने उनका बहिष्कार कर दिया है।

सलीम पर सन् 2000 में लगा था आरोप

सलीम ने बार-बार पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड से गुजारिश की कि उन्हें माफ कर दिया जाए। पर बात नहीं बनी। हालांकि कुछ दिग्गज मानते हैं कि पीसीबी तो उन्हें माफ करने के लिए भी तैयार थी, लेकिन मलिक को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट संघ यानी की आईसीसी ने कभी माफ नहीं किया।

सलीम मलिक पर सन् 2000 में मैच फिक्सिंग का आरोप लगा, जिसके बाद उसकी जांच हुई और साबित हो गया कि सलीम मलिक ने मैच फिक्स किया था। इसके बाद उनके ऊपर जीवनभर के लिए अंतररराष्ट्रीय स्तर की क्रिकेट खेलने पर बैन लगा दिया गया था। इसके बाद उनकी जीवन और देश के लिए इतने साल खेलने की मेहनत सब एक झटके में बर्बाद हो गई।

सलीम एक जिल्लत की जिंदगी जीने लगे। पाकिस्तान के मशहूर क्रिकेट समीक्षक असदर रजा बताते हैं कि सलीम मलिक पर लगे बैन से उनकी जिंदगी खत्म हो गई। उनका सामाजिक बहिष्कार शुरू हो गया।

पाकिस्तान के पूर्व कप्तान ने लगाया था आरोप

सलीम पर पहली बार पाकिस्तान के पूर्व कप्तान और विकेट कीपर राशिद लतीफ ने मैच फिक्सिंग का आरोप लगाया। राशिद लतीफ ने दक्षिण अफ्रीका और जिम्बाब्बे दौरे के दौरान पाकिस्तान के सलीम मलीक पर मैच फिक्स करने और करवाने का आरोप लगाया था।

लतीफ की शिकायत के बाद पाकिस्तान सरकार ने आरोपों की जांच करवाई। उसके बाद सलीम मलिक और अता-उर-रहमान पर जीवन भर का बैन लगा। हालांकि सलीम कहते हैं कि उन्होंने कोई फिक्सिंग नहीं की है। उन्हें फंसाया गया है वो निर्दोष हैं। वे मैच फिक्सिंग के काले धंधे का कभी भी हिस्सा नहीं थे।

बेहद हरफनमौला खिलाड़ी थे सलीम मलिक

सलीम पाकिस्तान क्रिकेट में एक बेहद प्रतिभाशाली खिलाड़ी थे। वें मध्यक्रम बल्लेबाज के साथ-साथ लेग ब्रेक बॉलर भी थे। दोनों रूप में उन्होंने अपने टीम के लिए काफी योगदान दिया है। उनकी कलाइयों से मारे गए शॉट्स को दिग्गज आज भी याद करते हैं। उनकी बल्लेबाजी में उनकी कलाइयों का कमाल दिखाई देता था।

मलिक ने 1982 में अपने टेस्ट करियर की शुरुआत की थी। उन्होंने 43.69 रनों की औसत से रन बनाए। मलिक ने 15 शतक और 29 हॉफ सैंचुरी भी ठोकी थीं। सलीम मलिक ने 12 टेस्ट मैचों में पाकिस्तान टीम की कप्तानी भी की।

Related Articles

PLAYING XI: हैदराबाद के खिलाफ एक बड़े बदलाव के साथ उतरेगी चेन्नई, पहली बार...

इण्डियन प्रीमियर लीग का 20वां मुकाबला सनराइजर्स हैदराबाद और चेन्नई सुपरकिंग्स के बीच रविवार,यानि 22 अप्रैल को खेला जाएगा। खेले जाने वाले इस रोमाचंक...

इस गेंदबाज को भारत के विश्व विजेता कप्तान कपिल देव ने बताया आईपीएल का...

आईपीएल एक ऐसा प्लेटफार्म है जहाँ सभी खिलाड़ियों को अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन करने का मौका मिलता है. इससे नए के साथ पुराने दिग्गज...

पत्नी से झगड़े के बाद बुरे दौर से गुजर रहे मोहम्मद शमी बन गए...

भारतीय टीम के तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी इन दिनों आईपीएल में धमाल मचा रहे हैं. तो वहीं शमी अपनी वाइफ के द्वारा लगाये गए...

दिल्ली डेयरडेविल्स की एक और हार के बाद दुखी हुए गौतम गंभीर ने नाम...

चिन्नास्वामी क्रिकेट स्टेडियम में रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरू बनाम दिल्ली डेयरडेविल्स के बीच आईपीएल 2018 का 19 वां मैच खेला गया। शुरूआत झटकों से ऊबरने...

‘मैन ऑफ़ द मैच’ लेते हुए एबी डीवीलियर्स ने फिर दिखाया क्यों है महान,...

एबी डीवीलियर्स की तूफानी पारी के चलते आरसीबी की टीम ने दिल्ली डेयरडेविल्स की टीम को आईपीएल 2018 के 19वें मैच में 6 विकेट...