विश्व कप 2019 में विराट कोहली -रवि शास्त्री के यह चार फैसले थे समझ से परे, हार के भी बने कारण 1
Prev1 of 4
Use your ← → (arrow) keys to browse

विश्व कप 2019 इंग्लैंड और वेल्स में खेला गया. इस विश्व कप का फाइनल मैच लॉर्ड्स के ऐतिहासिक मैदान पर इंग्लैंड और न्यूजीलैंड के बीच खेला गया. ये मैच बहुत ही रोमांचक हुआ. 50 ओवर के खेल खत्म होने के बाद दोनों टीमों के बराबर रन थे. जिसके कारण मैच सुपर ओवर तक गया. जहाँ भी मैच टाई हो गया.

जिसके बाद मैच में ज्यादा बाउंड्री मारने के कारण इंग्लैंड की टीम को मैच में जीत दे दी गयी. इंग्लैंड की टीम पहली बार विश्व विजेता बनी. भारतीय टीम के सफर इस विश्व कप में न्यूजीलैंड के खिलाफ सेमीफाइनल मैच हार कर खत्म हो गया था. इस मैच में भारतीय टीम 239 रनों के जवाब में मात्र 221 रनों पर आलआउट हो गयी थी.

यदि भारतीय टीम के कप्तान विराट कोहली और कोच रवि शास्त्री ने विश्व कप में कुछ फैसले गलत नहीं लिए होते तो शायद भारतीय टीम के सफर सेमीफाइनल में नहीं खत्म होता. हम आपको कप्तान और कोच के उन चार फैसलों के बारें में बता रहे हैं जो किसी भी क्रिकेट प्रेमी के समझ में नहीं आयें.

1.विजय शंकर की जगह मयंक अग्रवाल को मौका देना

विश्व कप 2019 में विराट कोहली -रवि शास्त्री के यह चार फैसले थे समझ से परे, हार के भी बने कारण 2

भारतीय टीम इस विश्व कप में अपने मुख्य खिलाड़ियों के चोट से भी परेशान रही. पाकिस्तान के खिलाफ मैच में गेंद और बल्ले से शानदार प्रदर्शन करने वाले विजय शंकर को नेट्स में अभ्यास करते हुए जसप्रीत बुमराह की गेंद पैर के अगुंठे में लगी. जिसके कारण उन्हें विश्व कप से बाहर जाना पड़ा और भारतीय टीम को उनकी जगह विकल्प मांगना पड़ा.

विजय शंकर के विकल्प के रूप में भारतीय कप्तान और कोच ने एक भी एकदिवसीय मैच नहीं खेले मयंक अग्रवाल की मांग की जबकि स्टैंडबाई खिलाड़ियों की लिस्ट में अनुभवी अंबाती रायडू उपलब्द थे.

अंबाती रायडू को इस तरह दूसरी बार दरकिनार किया गया था. जिसके बाद उन्होंने संन्यास ले लिया. रवि शास्त्री और विराट कोहली का मयंक अग्रवाल को विकल्प के रूप में मांगने का फैसला किसी को समझ में नहीं आया. क्योंकी मयंक अग्रवाल को खेलने का मौका ही नहीं मिला.

Prev1 of 4
Use your ← → (arrow) keys to browse