IND vs SA 3rd Test Team India bowling coach talks about DRS controversy

IND vs SA: भारत और दक्षिण अफ्रीका (IND vs SA) के बीच खेले गए तीसरे टेस्ट मैच ने एक अलग ही विवाद ने जन्म ले लिया। मामला LBW का है जिसे डिसीजन रिव्यु सिस्टम यानी DRS ने पलट दिया। अश्विन की फेंकी गई गेंद पर अफ़्रीकी कप्तान डीन एल्गर ने DRS ले लिया और सारा विवाद यही से शुरू हो गया। थर्ड अंपायर के फैसले से मैदानी अंपायर के साथ-साथ भारतीय खिलाड़ी भी बेहद नाखुश नजर आए। इस पर टीम इंडिया के बॉलिंग कोच ने भी अपनी प्रतिक्रिया दी है।

क्या थी पूरी घटना ?

DRS

दरअसल, खेल के तीसरे दिन रविचंद्रन अश्विन गेंदबाजी कर रहे थे। इस दौरान उन्होंने अफ़्रीकी कप्तान डीन एलगर को LBW आउट करवा दिया। मैदानी अंपायर मराय इरासमस तक ने एलगर को आउट करार दिया लेकिन बखेड़ा तब खड़ा हुआ जब अफ़्रीकी कप्तान ने DRS ले लिया। इसके बाद जो फैसला आया, उसने बवाल मचाकर रख दिया।

DRS ने पलट दिया फैसला

DRS

अफ़्रीकी कप्तान डीन एलगर को आर अश्विन ने जो गेंद फेंकी थी वो उनके पैड में घुटने से नीचे लगी थी। आमतौर पर ऐसा ही होता है कि गेंद स्टंप्स पर लगती हुई दिखती है लेकिन तीसरे अंपायर की रिप्ले में बॉल ट्रैकिंग में गेंद बेल्स से 2-3 मिलीमीटर ऊपर से निकलती हुई दिखाई दे रही थी। यह देखकर हर किसी की आंखें फटी की फटी रह गई। यहाँ तक की मैदानी अंपायर मराय इरासमस और कमेंटेटर तक को इस बात का यकीन नहीं हुआ। DRS ने फैसला पलट दिया और एल्गर को जीवनदान मिल गया।

बॉलिंग कोच पारस महाम्ब्रे ने व्यक्त की प्रतिक्रिया

DRS

अब इस मामले पर टीम इंडिया के बॉलिंग कोच पारस महाम्ब्रे ने अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त की है।  उन्होंने कहा,

”मेरे हिसाब से अब यह मामला मैच रेफरी देखेंगे। जो कुछ भी मैदान पर हुआ, वो हम सब ने देखा है। मैं इससे ज्यादा कुछ और नहीं कह सकता हूँ। अब हमारा ध्यान आगे की खेल पर है।”

इसके साथ ही टीम इंडिया के बॉलिंग कोच पारस महाम्ब्रे ने उस पर भी अपनी प्रतिक्रिया दी जो खिलाडियों की आवाज स्टंप माइक में कैद हुई थी। इस पर उन्होंने कहा,

”जो भी खिलाड़ी खेल रहा है, वो अपना बेस्ट देना चाहता है।  लोग कभी-कभी ऐसा कुछ कह जाते हैं लेकिन मेरे हिसाब से बेहतर यही होगा कि हम इन सब चीजों से आगे निकले। ”