36 रन पर ऑलआउट होने के बाद फ़ूटा शोएब अख़्तर का गुस्सा, टीम इंडिया को सुनाई खरी-खोटी 1

अपने दौर में अपनी रफ़्तार से बल्लेबाज़ों के पसीने छुड़ा देने वाले पूर्व पाकिस्तानी दिग्गज तेज़ गेंदबाज़ शोएब अख़्तर क्रिकेट की हर छोटी से छोटी और बड़ी से बड़ी से बड़ी घटना पर अपना विचार ज़रूर रखते हैं. इस सूरत में ऐसा कैसे हो सकता था कि  एडिलेड में भारतीय टीम के ऐतिहासिक कॉलैप्स पर अख़्तर न बोलते.

ऑस्ट्रेलियाई टीम ने मेहमान टीम का पुलिंदा महज़ 36 रनों पर ही बाँध दिया. जो कि भारतीय टीम के टेस्ट क्रिकेट इतिहास में अभी तक का सबसे कंम स्कोर है. पूर्व पाकिस्तानी गेंदबाज़ ने कहा कि भारतीय टीम को अपना ये प्रदर्शन अब सदियों याद रहने वाला है.

शोएब अख़्तर और बिशन सिंह बेदी ने लिया आड़े हाथों

शोएब अख़्तर

आगे भारतीय टीम के इसी बिखराव और ऑस्ट्रेलिया के प्रदर्शन पर अपने यूट्यूब चैनल से बोलते हुए अख़्तर ने कहा कि,

 “ये वाक़ई में बेहद शर्मनाक है. भारत जैसी दुनिया की एक बेहतरीन टीम से इस तरह का प्रदर्शन बिल्कुल भी स्वीकार्य नहीं है. इस प्रदर्शन के लिए उनकी सच में कड़ी आलोचना होनी  चाहिए क्योंकि उनके पास दुनिया बेहतरीन बैटिंग लाइन-अप्स में एक बैटिंग लाइन-अप है.”

View this post on Instagram

A post shared by Shoaib Akhtar (@imshoaibakhtar)

इसी दौरानिए में पूर्व दिग्गज भारतीय स्पिनर बिशन सिंह बेदी ने भी भारतीय टीम को निशाने पर लेते हुए कहा कि,

“ये एक ऐसा हादसा है जिससे बिल्कुल भी मुँह नहीं मोड़ा जा सकता. सिर्फ़ 36 रन पर ऑलआउट, वाक़ई?? इसे किसी भी तरह से एक्सप्लेन या जस्टिफ़ाई नहीं किया जा सकता. हर अच्छी गेंद का इनाम ऑस्ट्रेलिया को  विकेट के तौर पर मिला. मैं आपको बताता चलूं कि भारतीय बल्लेबाज़ों ने अपना विकेट नहीं फ़ेंका था.

ये क्रिकेट में होने वाले कुछ वाक़यो में से है, जो कि हो चुका और आपको अब ये मानना होगा. भारतीय टीम के साथ मेरी सहानुभूति है. लेकिन साथ ही हमें ये भी मानना होगा कि ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाज़ों ने शुरु से ही अपना दबदबा बनाए रखा और भारतीय बल्लेबाज़ों  को कोई मौका नहीं दिया.”

भारतीय टीम ने तोड़ा अपना ही शर्मनाक रिकॉर्ड

team india

भारतीय टीम ने पहली पारी में मिली 53 रन की बढ़त के साथ खेलना शुरु किया. लेकिन उसके बाद दूसरी पारी में भारत की पारी महज़ 36 रन पर सिमट गई. जो कि अभी तक खेले गए 142 साल के टेस्ट क्रिकेट इतिहास के 2396 अंतरराष्ट्रीय टेस्ट मैचों में संयुक्त रूप से चौथा सबसे कम स्कोर है.

भारतीय टीम ने 1974 में इंग्लैंड के खिलाफ़ लॉर्ड्स के मैदान पर बनाए अपने ही 42 रन के स्कोर का रिकॉर्ड तोड़ते हुए ये शर्मनाक रिकॉर्ड अपने नाम दर्ज कराया.

ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाज़ बधाई के पात्र – बेदी

36 रन पर ऑलआउट होने के बाद फ़ूटा शोएब अख़्तर का गुस्सा, टीम इंडिया को सुनाई खरी-खोटी 2

पूर्व भारतीय ऑफ़ स्पिनर बिशन सिंह बेदी ने इसी मसले पर अपनी बात को आगे बढ़ाते हुए कहा कि,

“इस प्रदर्शन और इस रिकॉर्ड के लिए ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाज़ों को पूरा श्रेय दिया जाना चाहिए. सटीक लाइन-लेंग्थ पर बेहतरीन गेंदबाज़ी करने के लिए पैट कमिंस और जोश हेज़लवुड वाक़ई में बधाई के पात्र हैं. कमिंस ने 4 तो हेज़लवुड ने 5 विकेट लेकर भारतीय बल्लेबाज़ी की पूरी तरह कमर तोड़ दी.

भारत के लिहाज़ से कहूँ तो सीधी सी बात ये हैं कि अगर आपको शुरुआत अच्छी नहीं मिलती है तो फिर आप पूरी पारी के दौरान संघर्ष ही करते हुए नज़र आएंगे. मुझे वाक़ई भारत के दोनों  ही सलामी बल्लेबाज़ों (पृथ्वी शॉ और मयंक अग्रवाल) की बल्लेबाज़ी देख कर काफ़ी निराशा हुई. भारतीय टीम को समय रहते अपनी गलतियाँ सुधारनी होंगी.”

Umesh Sharma

Everything under the sun can be expressed in written form. So, I am practicing the same since the time I hold my consciousness and came to know pen and paper. Apart from being Writer, Journalist or...