दुलीप ट्राफी पर बोले इंडिया ब्ल्यू के कप्तान गौतम गंभीर

sagar mhatre / 13 September 2016

इस साल दुलीप ट्रॉफी में डे नाईट टेस्ट मैचों का आयोजन किया गया, और भारत में पहली बार गुलाबी गेंद से टेस्ट मैच खेला गया. दुलीप ट्रॉफी इस वजह से काफी चर्चा में रहीं और खिलाड़ीयों ने इसको सपोर्ट भी किया.

इस मामलें में गौतम गंभीर ने बीसीसीआई को दिए इंटरव्यू में काफी बातें कहीं हैं, जिसमे गुलाबी गेंद से लेकर डे नाईट टेस्ट के बारें में उन्होंने कहा हैं.

गौतम गंभीर ने कहा कि, कई लोगों का कहना हैं कि, गुलाबी गेंद और लाल गेंद में काफी फरक हैं. लेकिन मुझे ऐसा बिल्कुल नहीं लगता. दोनों गेंद एक तरह की ही हैं, और मुझे ये गेंद काफी अच्छी लगी हैं.

मयंक अगरवाल पर उन्होंने कहा, वे काफी प्रतिभाशाली युवा खिलाड़ी हैं. उनमे सिखने की लगन हैं जो एक युवा खिलाड़ी को और भी अच्छा बनाती हैं. लेकिन उन्हें अगले पुरे सीजन ऐसी ही निरंतरता दिखानी होगी, और मुझे पुरी उम्मीद हैं कि, वे भविष्य में भारत के लिए खेलेंगे.

यह भी पढ़े : पांच कारण जिनकी वजह से गौतम गंभीर को नहीं मिली टीम में जगह

गंभीर ने खुदके उपर कहा कि, सीजन की शुरूआत मैनें अच्छी की हैं, लेकिन मुझे पुरा सीजन अच्छा करना होगा. रणजी ट्रॉफी को अभी काफी समय शेष हैं, और इस बार हम दुसरे शहरों में खेलेंगे, और पिचें भी अलग रहेगी, तो ये चुनौतीपुर्ण होगा. लेकिन मुझे विश्वास हैं कि, मैं इस सीजन अपना बेस्ट दुंगा.

मैं हमेशा पहली गेंद से एक एक गेंद खेलने के बारें में ही सोचता हूं, और दुसरी चीजों पर ध्यान नहीं देता. और मेरा यहीं मत्र हैं.

गंभीर ने आखिर में कहा, दुलीप ट्रॉफी के बारे में लोग ऐसा कहते हैं कि, इसमे टीम का कोई महत्व नहीं बल्कि खिलाड़ीयों के प्रदर्शन को ही देखा जाता हैं. लेकिन मुझे ऐसा बिल्कुल नहीं लगता. मैनें मेरे साथी खिलाड़ीयों से कहा हैं कि, हम यहां बतौर खिलाड़ी नहीं, बल्कि टीम के लिए जीतने आए हैं. और यहीं से हमे सिख मिलती हैं, और हम आगें जाकर भारत के लिए खेलते हैं.

यह भी पढ़े : टीम में न चुने जाने पर गंभीर की पहली प्रतिक्रिया

यहाँ देखें पूरा विडियो :-