/

कभी भारत की हार के सपने देखने वाले इस दिग्गज खिलाड़ी ने अनुसार, अफ्रीका में विराट एंड कंपनी लहराएगी तिरंगा

बाएं हाथ के पूर्व स्पिनर सुनील जोशी के मुताबिक, दक्षिण अफ्रीका में तीन टेस्ट मैचों की श्रृंखला में इतिहास रचने के लिए विराट कोहली के नेतृत्व वाली भारतीय टीम में दो महत्वपूर्ण चीजें हैं।

जेसीसी
बनना चाहते हैं प्रोफेशनल क्रिकेटर?
अभी करें रजिस्टर

*T&C Apply

बता दें कि गुरुवार (28 दिसंबर) भारत के इंटरनेशनल बिजनेस टाइम्स के साथ एक विशेष साक्षात्कार में 47 वर्षीय जोशी, जिन्होंने भारत के लिए 15 टेस्ट और 69 वनडे खेले, ने भारत-दक्षिण अफ्रीका के दौरे पर अपने विचार साझा किए। जोशी अब एक स्पिन सलाहकार के रूप में बांग्लादेश टीम के साथ जुड़े हुए हैं।

भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच पहला टेस्ट 5 जनवरी, 2018 से केप टाउन में शुरू होने वाला है। 17 सदस्यीय टीम कल मुंबई निकल गयी थीं। टेस्ट के बाद छह एकदिवसीय और तीन टी -20 मैच भी होंगे।

विशेषज्ञों के सवाल और उनके जवाब

प्रश्न: क्या भारत दक्षिण अफ्रीका में टेस्ट क्रिकेट सीरीज जीतकर एक नया इतिहास बना सकता है?

सुनील जोशी: भारतीय टीम में इन दिनों तेज गेंदबाजी बहुत अच्छी हैं और यही भारत की आवश्यकता थी। भारतीय बल्लेबाजों के लिए डेल स्टेन, मोर्न मोर्केल, वर्नोन फिलैंडर और कागीसो रबाडा की तेज गेंदबाजी पर थोड़ा ध्यान देना होगा। अगर हम अच्छी तरह से बल्लेबाजी कर सकते हैं, और अगर शीर्ष छह बल्लेबाज 400 से अधिक रन बनाते हैं, तो हमें श्रृंखला जीतने से ये अफ्रीका के बॉलर नहीं रोक पायेंगे।

प्रश्न: क्या आपको लगता है कि एक बार फिर से कप्तान विराट कोहली महत्वपूर्ण भूमिका निभाएंगे और क्या वह दक्षिण अफ्रीका में अपने अविश्वसनीय घरेलू प्रदर्शन को यहाँ भी दिखा पायेंगे?

जोशी: हर टीम को कप्तान से बड़ा योगदान बहुत पसंद है और यह विराट कोहली के लिए सम्मान है। हालांकि, यह केवल कोहली के लिए ही नहीं है, यह अन्य सभी बल्लेबाजों के लिए भी है जिसमें- केएल राहुल, मुरली विजय, शिखर धवन, अजिंक्य रहाणे, रोहित शर्मा, चेतेश्वर पुजारा, रिद्धिमान साहा।

प्रश्न: टेस्ट श्रृंखला में आर अश्विन की भूमिका क्या होगी। वह लेग स्पिन गेंदबाजी की कोशिश कर रहे है, क्या इसमें इन्हें सफलता मिलेगी?

जोशी: यदि स्थिति तेज गेंदबाजों के अनुरूप होती है, तो ये भारतीय टीम के लिए जरुर बहुत अच्छा करेंगे और भारत को अच्छा परिणाम मिलेगा। ईशांत शर्मा ने 79 टेस्ट खेले हैं, इस प्रकार इनके पास ज्यादा अनुभव है और इस बार इनके कन्धों पर अधिक जिम्मेदारी रहेगी। भारत में पिछले एक साल में जो कुछ भी अश्विन ने साबित किया है, वो उनकी शानदार फार्म का कमाल है। हर क्रिकेटर के लिए, फॉर्म नई सीरीज़ में जाना महत्वपूर्ण होता है। वह चतुर है और कुछ बदलावों की कोशिश कर रहे है। एक गेंदबाज के रूप में, आपको अपने विकेट-लेने वाली डिलिवरी पर ज्यादा ध्यान देना चाहिए।

प्रश्न: क्या आप एक तेज गेंदबाज चुन सकते हैं जो भारत के लिए महत्वपूर्ण हो सकता है?

जोशी: यह मुश्किल है, यदि मोहम्मद शमी फिट है, तो वह मेरे फेवरेट बॉलर है। अगर शमी फिट नहीं हैं तो मैं उमेश यादव के साथ जाना चाहता हूँ वह रणजी ट्रॉफी सेमीफाइनल में (कर्नाटक के खिलाफ) हाल में विदर्भ के लिए खेले हैं। शमी ने दिल्ली के खिलाफ बंगाल के लिए सेमीफाइनल भी खेला था। मैंने दोनों मैच देखे हैं, उमेश अपनी गति और उछाल के कारण दक्षिण अफ्रीका के बल्लेबाजों के लिए ख़तरा बन सकते हैं। यदि शमी पूरी श्रृंखला में फिट रहते है, तो वह निश्चित रूप से महत्वपूर्ण होगा। स्पिनरों को भी योगदान देना होगा।

प्रश्न: श्रृंखला से पहले कोई वार्म-अप मैच नहीं। क्या भारत के इस दौरे पर इसका असर होगा?

जोशी: जाहिर है यह उनके मौके पर असर पड़ेगा। वे बिना किसी वार्म अप गेम्स के सीधे टेस्ट में जा रहे हैं। एशियाई टीम केवल पहला टेस्ट ही खेलने के बाद ही शर्तों के बारे में समझ जाएगी। तो वार्म-अप मैच वास्तव में महत्वपूर्ण हैं क्योंकि आप नेट पर क्रिकेट खेल सकते है अभ्यास मैच जितना तो नहीं खेल सकते ना, हालांकि भारतीय टीम बहुत अच्छी तरह से संतुलित है और दक्षिण अफ्रीका में श्रृंखला जीतने का एक अच्छा मौका है।