कुलदीप यादव और युजवेंद्र चहल को टी-20 टीम से बाहर करने पर भड़का ये पूर्व दिग्गज

Trending News

Blog Post

क्रिकेट

कुलदीप यादव और युजवेंद्र चहल को टी-20 टीम से बाहर करने पर भड़का ये पूर्व दिग्गज 

कुलदीप यादव और युजवेंद्र चहल को टी-20 टीम से बाहर करने पर भड़का ये पूर्व दिग्गज

कुलदीप यादव और युजवेंद्र चहल – भारतीय क्रिकेट में ‘कुलचा’ के नाम से प्रसिद्द यह जोड़ी, – भले ही अब भारतीय टीम का स्वाद नहीं बढ़ा पा रहा हो. लेकिन विशेषज्ञों का मानना है कि अगले साल टी 20 विश्व कप से पहले उनको कम अवसर देना या उनको नकारना अभी जल्दबाजी होगा. वैसे उनका प्रदर्शन देख कर उनको मौका ना देना कही ना कही यह उनके साथ नाइंसाफी होगी.

कुलदीप यादव और युजवेंद्र चहल को नहीं दिया गया मौका

कुलदीप यादव

चयनकर्ताओं ने एक ‘खास प्लान’ के तहत कुलदीप यादव व चहल को टीम से बाहर रखा है, लेकिन कुछ विशेषज्ञ इस तरह के प्रयोग के खिलाफ राय जता रहे हैं. इन विशेषज्ञों का मानना है कि यह कदम उलटा पड़ सकता है.

धर्मशाला में शुरूआती टी 20 से पहले कप्तान विराट कोहली ने कहा कि टीम राहुल चाहर और वाशिंगटन सुंदर का चुनाव करेगी. क्योंकि वह चाहती है कि टीम लगातार टी20 में  200 से अधिक का स्कोर बनाए.

पूर्व भारतीय सलामी बल्लेबाज आकाश चोपड़ा को लगता है कि कुलदीप यादव और चहल को बाहर करने का फैसला टीम के लिए नुकसानदायक हो सकता है.

चोपड़ा ने पीटीआई से कहा कि,

“इसके पीछे विचार यह है कि अगर बल्लेबाजी में गहराई है तो आप निश्चित तरीके से बल्लेबाजी कर सकते हैं. लेकिन इस तरह की गहराई के साथ आप पारंपरिक तरीके से नहीं खेल सकते. इंग्लैंड ने ऐसा ही किया. उन्होंने बल्लेबाजी में गहराई पर ध्यान केंद्रित किया क्योंकि वे 400 रन (वनडे इंटरनेशनल मैचों में) बनाना चाहते थे और उन्होंने कई बार इसे हासिल किया.”

आकाश चोपड़ा ने इस बात पर जताई संशय

युजवेंद्र चहल

आकाश चोपड़ा को लगता है कि अगर कोई भी टीम अपनी गेंदबाजी में समझौता करना चाहती है तो उसको अपने बल्ले से ज्यादा रन बनाने होंगे. इनको लगता है कि चहल जल्द ही टी20 प्रारूप में भारतीय टीम में वापसी करेंगे.

चोपड़ा ने कुलदीप यादव और चहल के लिए कहा कि,

‘‘चहल वापसी करेगा. राहुल चाहर गेंदबाज हैं और आठवें नंबर पर शायद वाशिंगटन सुंदर की बल्लेबाजी की जरूरत ही ना पड़े आठवें, नौवें और 10वें नंबर तक बल्लेबाजी काफी महत्वाकांक्षी है (क्योंकि शायद 20 ओवर के मैच में आपको इसकी जरूरत ही नहीं पड़े) लेकिन अगर आप 220 रन बनाने का प्रयास कर रहे हैं तो ठीक है.”

इसके बाद जाने-माने स्पिन कोच सुनील जोशी ने युवाओं को मौका देने की बात पर अपनी सहमती जताई है साथ ही यह भी बताया है कि ऐसा करने से स्पिनरों के मन में भ्रम पैदा हो सकता है.

जोशी को लगता है कि इन दोनों के साथ ही वैसा हो रहा है जैसा अश्विन और जडेजा के साथ हुआ था उनको भी छोटे प्रारूप से जल्द ही निकाल दिया गया था, इसमें जडेजा ने तो वापसी कर ली लेकिन अश्विन इस दौड़ में पीछे छूट गए थे.

जोशी ने कहा कि,

‘मैं सुझाव दूंगा कि कुलदीप  यादव और चहल ज ब राष्ट्रीय टीम का हिस्सा नहीं हों तो घरेलू क्रिकेट खेलें. यहां अंगुली के स्पिनर या कलाई के स्पिनर का सवाल नहीं है. यह बल्लेबाजों को छकाने की रणनीति है. देखते हैं कि युवा स्पिनर कैसा करते हैं और उन्हें पर्याप्त मौके दिए जाने चाहिए लेकिन साथ ही अगर चहल और कुलदीप सिर्फ एक प्रारूप में खेलते हैं तो उनकी लय बिगड़ सकती है. सफेद गेंद का क्रिकेट पूरी तरह से लय पर निर्भर है.”

 

 

Related posts