भारतीय क्रिकेट टीम को मिल रही लगातार जीत, कप्तान को इन 3 बातों की टेंशन

Trending News

Blog Post

क्रिकेट

लगातार मिल रही जीत के बाद भी इन 3 कारणों से टेंशन में हैं कप्तान विराट कोहली 

लगातार मिल रही जीत के बाद भी इन 3 कारणों से टेंशन में हैं कप्तान विराट कोहली

वेस्टइंडीज के खिलाफ टीम इंडिया ने पहले टी20 में विंडीज को क्लीन स्वीप कर दिया और फिर दूसरे वनडे मैच में भी भारतीय क्रिकेट टीम ने जीत दर्ज कर ली। हालांकि, इस जीत के बावजूद टीम इंडिया और कप्तान विराट कोहली की टेंशन जरूर बढ़ गई होंगी आइए डालते हैं टीम इंडिया को टेंशन में डालने वाली 3 वजहों पर।

1- ऋषभ पंत

लगातार मिल रही जीत के बाद भी इन 3 कारणों से टेंशन में हैं कप्तान विराट कोहली 1

ऋषभ पंत को महेंद्र सिंह धोनी का उत्तराधिकारी माना जाता है लेकिन यदि उनके प्रदर्शन पर गौर करें तो वह धोनी जैसे नजर नहीं आ रहे हैं। हां, धोनी और पंत दोनों ही विस्फोटक बल्लेबाजी के लिए मशहूर हैं लेकिन इसके साथ-साथ धोनी बेहद समझदारी के साथ खेलते हैं, वहीं ऋषभ पंत की बल्लेबाजी शैली अब टीम इंडिया के लिए टेंशन की बात है।

ऋषभ पंत की सबसे बड़ी कमजोरी उनका जल्दी आउट होना नहीं बल्कि खराब शॉट सेलेक्शन है। त्रिनिदाद में खेले गए दूसरे वनडे में पंत ने बेहद ही खराब शॉट खेलकर अपना विकेट गंवाया। पंत के अंदर टैलेंट है इसमें कोई दो राय नहीं, लेकिन जिस अंदाज में वो आउट होते हैं वो टीम इंडिया के लिए बड़ी टेंशन है।

2- शिखर धवन

भारतीय क्रिकेट टीम

विश्व कप में इंजरी के कारण स्वदेश लौटने के बाद शिखर धवन ने भारतीय क्रिकेट टीम में वापसी की। भले ही धवन वनडे फॉर्मेट में टीम इंडिया के अहम खिलाड़ी हों, लेकिन जब से वो चोट से उबरकर वापस लौटे हैं वह एक भी मैच में फॉर्म में नजर नहीं आए।

वह वेस्टइंडीज के खिलाफ क्रमश: 2, 3, 23 और 1 रन की पारी खेलकर पवेलियन लौट चले गए। धवन 4 में से 3 पारियों में दहाई का आंकड़ा भी नहीं छू पा रहे हैं। उनका फुटवर्क काफी धीमा लग रहा है, साफ है उनकी फॉर्म भी खराब नजर आ रहा है। इसलिए धवन का आउट ऑफ फॉर्म होना कप्तान कोहली के लिए अच्छी खबर नहीं है।

3- डैथ ओवर्स में टीम इंडिया की बल्लेबाजी

लगातार मिल रही जीत के बाद भी इन 3 कारणों से टेंशन में हैं कप्तान विराट कोहली 2

भारतीय क्रिकेट टीम पिछले काफी वक्त से एक समस्या से जूंझ रही है वो है डैथ ओवर्स में खराब बल्लेबाजी। टीम का हाल कुछ यूं हो गया है यदि टॉप ऑर्डर ने रन बनाए तो ठीक वरना मिडिल ओवर जिम्मेदारी नहीं उठा पा रहा है।

वेस्टइंडीज के खिलाफ दूसरे वनडे में भी कुछ ऐसा ही देखने को मिला। टीम इंडिया ने 40 ओवर में 3 विकेट पर 212 रन बना लिए थे और विराट कोहली-श्रेयस अय्यर की जोड़ी क्रीज पर थी। टीम इंडिया पूरी तरह सेट थी और उससे 300 रनों की उम्मीद की जा रही थी लेकिन ऐसा हो नहीं पाया।

टीम इंडिया के बल्लेबाजों ने आखिरी 10 ओवर में महज 67 रन ही बनाए और अपने 4 विकेट्स भी खो दिए। इस सीरीज में क्या इससे पहले भी गौर किया जाए तो विश्व कप से ही यह समस्या चली आ रही है कि मिडिल ऑर्डर डैथ ओवर्स में बल्ला खोलकर बल्लेबाजी नहीं कर रहा है।

Related posts