पहले टेस्ट से पहले इन 4 खिलाड़ियों की वजह से कप्तान विराट कोहली की बढ़ी परेशानी

Trending News

Blog Post

क्रिकेट

WI vs IND: पहले टेस्ट से पहले इन 4 खिलाड़ियों की वजह से कप्तान विराट कोहली की बढ़ी परेशानी 

WI vs IND: पहले टेस्ट से पहले इन 4 खिलाड़ियों की वजह से कप्तान विराट कोहली की बढ़ी परेशानी

भारतीय क्रिकेट टीम को 22 अगस्त से वेस्टइंडीज के खिलाफ 2 मैचों की टेस्ट सीरीज खेलनी है। लेकिन कप्तान विराट कोहली के ऊपर इस वक्त काफी दबाव है, क्योंकि उनके सामने 3 बड़े सवाल खड़े हैं, जिनका हल उन्हें पहले टेस्ट मैच से पहले निकालना ही होगा। दूसरी तरफ अजिंक्य रहाणे और स्पिन गेंदबाज अश्विन को पहले टेस्ट मैच की प्लेइंग इलेवन घोषित होने तक अपने चुने जाने का दिल थाम कर इंतजार करना होगा।

रहाणे का रहा है टेस्ट में बेहतरीन प्रदर्शन

WI vs IND: पहले टेस्ट से पहले इन 4 खिलाड़ियों की वजह से कप्तान विराट कोहली की बढ़ी परेशानी 1

आंजिक्य रहाणे का 40 का औसत और 56 टेस्ट का अनुभव एक बड़ी दस्तक है कि उन्हें टीम में जगह दी जाए। उनके नौ टेस्ट शतक हैं, और इससे भी महत्वपूर्ण बात यह है कि ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड सहित कई टेस्ट मैचों में उन्होंने कई शतक बनाए हैं।

लेकिन ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ अंतिम टेस्ट मैच से पहले रहाणे ने फॉर्म में वापसी की उसके पहले उन्होंने 13, 70, 51, 30, 34, 1 और 18 रन बनाए। फिर दो साल और 17 टेस्ट होने के बाद उन्होंने एक शतक बनाया। उन्हें प्रथम श्रेणी क्रिकेट में भी रन नहीं बनाये लेकिन उनके पास 50 टेस्ट मैच खेलने का अनुभव मौजूद है।

रोहित शर्मा की प्रतिष्ठा उनके एक दिवसीय कारनामों पर बनी है। यह केवल विश्व कप में बढ़ा। विश्व कप में पांच शतक लगाने वाले एक बल्लेबाज की अनदेखी कैसे करें?

ऑस्ट्रेलिया में अपने आखिरी दो टेस्ट में रोहित शर्मा ने 37, 1, 63 नॉट आउट और 5 ही रन बनाए। अब देखना दिलचस्प होगा कि कप्तान कोहली, अजिंक्य रहाणे को टीम में मौका देते हैं या नहीं।

चार गेंदबाजों के साथ उतरेगी टीम?

WI vs IND: पहले टेस्ट से पहले इन 4 खिलाड़ियों की वजह से कप्तान विराट कोहली की बढ़ी परेशानी 2

अगर भारतीय कप्तान चार गेंदबाजों के साथ जाते हैं, तो वह विहारी को पार्टटाइम ऑफ स्पिन के रूप में इस्तेमाल कर सकते हैं। शीर्ष चार में सलामी बल्लेबाज मयंक अग्रवाल हैं, जिन्होंने मेलबर्न में 76 और 42 वो केएल राहुल के साथ पारी की शुरुआत कर सकते हैं, तो वहीं चेतेश्वर पुजारा नंबर 3 और कोहली नंबर 4 पर बल्लेबाजी के दावेदार हैं।

गेंदबाजी विभाग में पेस अटैक जसप्रीत बुमराह और मोहम्मद शमी की अगुवाई में होगा तो इशांत शर्मा बैक-अप के रूप में टीम में शामिल हैं। उमेश यादव फिर से लय में हैं, लेकिन उनका टीम में शामिल होना मुश्किल नजर आ रहा है। स्पिनरों की बात करें तो ऑस्ट्रेलिया सीरीज के अंत में कुलदीप यादव ने अश्विन के साथ भारत के प्रमुख स्पिनर का पदभार संभाला है।

साहा या पंत ?

WI vs IND: पहले टेस्ट से पहले इन 4 खिलाड़ियों की वजह से कप्तान विराट कोहली की बढ़ी परेशानी 3

रिद्धिमान साहा के सीनियर होने के बावजूद उनकी बल्लेबाजी क्षमता के कारण ऋषभ पंत कप्तान कोहली की पहली पसंद बन सकते हैं। चोट के कारण साहा को दरकिनार कर दिया गया था और मुख्य चयनकर्ता एमएसके प्रसाद ने कहा था कि चोट लगने के कारण किसी भी खिलाड़ी को फिट होने पर अपने आप ही जगह मिल जाती है।

लेकिन अब देखना होगा कि उन्हें केवल पंद्रह सदस्यीय टीम का हिस्सा ही बनाया जाता है या फिर खेलने का भी मौका दिया जाता है। पंत अधिक गतिशील बल्लेबाज हैं, जबकि साहा सेफ खेलते हैं। इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया में शतक जमाने के बाद दिल्ली के खिलाड़ी के पास बढ़त है।

हालातों को देखकर लगता है कि साहा को टीम में शामिल किया जाना मुश्किल है, लेकिन पंत को भी अच्छा खेल दिखाना होगा वरना उन्हें मिल रहे लगातार मौकों पर कप्तान विराम लगा सकते हैं। यदि पत विकेटकीपिंग में गलतियां करते हैं तो साहा को टीम में जगह मिल सकती है।

उमेश यादव ने बताया प्लेइंग-11 में शामिल होने के लिए है बहुत कॉम्पटीशन

WI vs IND: पहले टेस्ट से पहले इन 4 खिलाड़ियों की वजह से कप्तान विराट कोहली की बढ़ी परेशानी 4

उमेश यादव ने बताया कि टेस्ट टीम में शामिल होने के लिए बड़ा कॉम्पटीशन है। उन्होंने कहा “हम इतने सारे टेस्ट खेल रहे हैं, हमें अच्छी बेंच स्ट्रेंथ की जरूरत है। हम जानते हैं कि हम सभी को मौका मिलेगा क्योंकि वहां बहुत क्रिकेट खेलना है।

2018 की शुरुआत के बाद से उमेश ने केवल भारत के लिए 15 टेस्ट में से पांच मैच खेले हैं। तेज गेंदबाज ने बताया कि किस तरह उन्होंने अपनी गेंदबाजी को पहले से बेहतर किया।

उन्होंने कहा

“मैं विदर्भ क्रिकेट अकादमी गया और कोच सुब्रत बनर्जी के साथ मैंने काफी अभ्यास किया। यह बहुत सारे तेज गेंदबाजों के साथ होता है, जब आप लगातार खेल रहे होते हैं, तो आप एक विशिष्ट लाइन और लंबाई में गेंदबाजी करने से चूकने लगते हो।”

“आपको समय की आवश्यकता होती है क्योंकि तभी आप अपनी मानसिकता को फिर से आकार दे सकते हैं। कई बार ऐसा होता है कि सब कुछ अच्छा चल रहा होता है, लेकिन आपका मन विचलित होता है कि चीजें वैसी नहीं हो पा रही हैं जैसी आप चाहते हैं। दूर होने और सोचने के लिए, वह मन का स्थान महत्वपूर्ण है। मैं घर गया, अपने कोच से बात की, अपने विचारों को साफ़ किया और स्पष्टता प्राप्त की। ”

Related posts