वेस्टइंडीज के इस बल्लेबाज के सामने गेंदबाजी करने से डरते थे भारतीय गेंदबाज

Trending News

Blog Post

क्रिकेट

वेस्टइंडीज के इस बल्लेबाज के सामने गेंदबाजी करने से कांप जाते थे भारतीय गेंदबाज, बता कर मारता था छक्के 

वेस्टइंडीज के इस बल्लेबाज के सामने गेंदबाजी करने से कांप जाते थे भारतीय गेंदबाज, बता कर मारता था छक्के
वेस्टइंडीज

वेस्टइंडीज क्रिकेट टीम की बल्लेबाजी जैसे आज है वैसे पहले नहीं थी. टीम के पास कई दिग्गज बल्लेबाज थे. उन्ही में से एक थे विवयन रिचर्ड्स. ये खिलाड़ी जब मैदान पर बल्लेबाजी करने उतरता था तो तहलका मचा देता था. हर गेंदबाज की जमकर धुनाई करता था. खासकर भारत के खिलाफ तो यह बल्लेबाज अलग रंग में  होता था. इन्होने अपने क्रिकेट जीवन की शुरुआत भी भारत के खिलाफ ही करी थी.

साल 1974 में भारत के विरुद्ध बेंगलूरू टेस्ट से उन्होंने डेब्यू किया था. इस सीरीज़ के दौरान नई दिल्ली में खेले गए दूसरे टेस्ट में 192 रनों की शानदार पारी खेली.

जब रिचर्ड्स भारत के खिलाफ वन डे मैच खेलने आते थे तब भारतीय गेंदबाज इनके सामने  गेंदबाजी करने से डरते थे. इस खिलाड़ी का भारत के खिलाफ रिकॉर्ड देख आपको खुद समझ आ जाएगा आखिर क्यों भारतीय गेंदबाज इनके सामने गेंदबाजी करने से डरते थे?

विवयन रिचर्ड्स
विवयन रिचर्ड्स

भारत के खिलाफ वन डे में  विवयन रिचर्ड्स का रिकॉर्ड: 

भारत के बाहर:

मैच : 31 | पारी: 26 | रन: 997 | बेस्ट: 149 | 50s : 2 | 100s : 3 | MoM : 8

भारत में:

मैच : 22 | पारी : 19 | रन: 675 | औसत: 42.19 | स्ट्राइक रेट: 99.26 : 50s : 1 | 100s : 2

ये रिकॉर्ड बताते हैं चाहें भारत हो या भारत के बाहर कैसे भारतीय गेंदबाजों को विवयन रिचर्ड्स  की बल्लेबाजी से डर लगता था.

टेस्ट में भी थे बेस्ट 

उन्होंने 121 टेस्ट मैच खेले, इन मैचों में उन्होने 50.23 की औसत से 24 शतकों की सहायता से 8540 रन बनाये.

विवयन रिचर्ड्स
विवयन रिचर्ड्स

कप्तान के रूप में भी थे खतरनाक

रिचर्डस ने जिन पचास टेस्ट मैचों में कैरिबियाई टीम का नेतृत्व किया, उनमें 27 मैचों में वेस्टइंडीज़ विजयी रहा, जबिक मात्र आठ टेस्ट मैचों में ही उसे हार का सामना करना पड़ा.

1976 उनके कैरियर का यादगार वर्ष था, इस वर्ष उन्होने मात्र 11 टेस्ट में सात शतकों की सहायता से 90.00 रन की औसत से 1710 रन बनाये.  एक कैलेंडर वर्ष में रिचर्ड्स का ये रिकार्ड तीस वर्षों तक क़ायम रहा, जिसे बाद में पाकिस्तान के मोहम्मद यूसुफ़ ने 30 नवम्बर 2006 में तोड़ा.

आज वेस्टइंडीज के पास ऐसे बल्लेबाज नहीं  हैं. टीम के खिलाड़ी अपने देश को छोड़ लुभावने टी- 20 लीग पर अपना ध्यान दे रहे हैं. जिससे कभी विश्व  की नंबर एक टीम रही  वेस्टइंडीज आज फिसड्डी टीम  बन के रह गई है.

 

अगर आपको हमारा ये आर्टिकल पसंद आया हो तो प्लीज इसे लाइक करें। अपने दोस्तों तक इस खबर को सबसे पहले पहुंचाने के लिए शेयर करें। साथ ही कोई सुझाव देना चाहे तो प्लीज कमेंट करें। अगर आपने हमारा पेज अब तक लाइक नहीं किया हो तो कृपया इसे लाइक करें, जिससे लेटेस्ट अपडेट आपको हम जल्दी पहुंचा सके।

Related posts

Leave a Reply