"भारतीय टीम सत्तर के दशक की वेस्टइंडीज टीम जैसी, पहले से दबाव में विपक्षी"

Trending News

Blog Post

क्रिकेट

“भारतीय टीम सत्तर के दशक की वेस्टइंडीज टीम जैसी, पहले से दबाव में विपक्षी” 

“भारतीय टीम सत्तर के दशक की वेस्टइंडीज टीम जैसी, पहले से दबाव में विपक्षी”

भारतीय टीम आईसीसी विश्व कप के इस संस्करण में शानदार प्रदर्शन कर रही है। टीम ने पहले मुकाबले में मुश्किल पिच पर दक्षिण अफ्रीका को मात दी। उसके बाद लगातार 10 वनडे जीतकर आ रही गत विजेता ऑस्ट्रेलिया भी भारतीय टीम के सामने नहीं टिक पाई। न्यूजीलैंड के खिलाफ मैच रद्द होने के बाद पाकिस्तान को भी टीम ने एकतरफा मुकाबले में मात दी। टीम के प्रदर्शन पर विश्व कप 1983 में टीम के सलामी बल्लेबाज रहे कृष्णमाचारी श्रीकांत ने बात की है।

वेस्टइंडीज जैसी भारतीय टीम

"भारतीय टीम सत्तर के दशक की वेस्टइंडीज टीम जैसी, पहले से दबाव में विपक्षी" 1

कृष्णमाचारी श्रीकांत ने इस भारतीय टीम को 70 के दशक की वेस्टइंडीज टीम जैसा माना है। उस समय विंडीज को हराना हर एक टीम का सपना होता था। उन्होंने आईसीसी के लिए कॉलम में लिखा

“यह टीम 70 के दशक की वेस्टइंडीज टीम जैसी बनती जा रही है जिसमें विरोधी टीमें पहले ही मनोवैज्ञानिक दबाव में रहती थी। टीमें भारत का सामना करने को लेकर चिंतित हैं और बैकफुट पर चली जाती हैं।”

केएल राहुल की तारीफ की

भारतीय टीम

भारत के लिए पाकिस्तान के खिलाफ खेले गये मैच में सलामी बल्लेबाजों ने 136 रन जोड़े। चोटिल शिखर धवन की जगह सलामी बल्लेबाज करने उतरे केएल राहुल ने पाकिस्तानी गेंदबाजों का डटकर सामना किया। कृष्णमाचारी श्रीकांत राहुल के लिए ने लिखा

“सभी को पता है कि रोहित शर्मा कितना शानदार बल्लेबाज है लेकिन मेरी नजर में केएल राहुल की पारी अधिक अहम थी। इस मैच से पहले सबसे बड़ा सवाल ही यह था कि शिखर धवन के बिना टीम कैसे खेलेगी। शीर्ष तीनों बल्लेबाजों ने रन बनाए। शर्मा और राहुल ने शतकीय साझेदारी की और विराट ने भी उम्दा पारी खेली जो भारत के लिए अच्छी बात है।”

चिंता हुई कम

"भारतीय टीम सत्तर के दशक की वेस्टइंडीज टीम जैसी, पहले से दबाव में विपक्षी" 2

कृष्णमाचारी श्रीकांत को इस मैच से पहले कुलदीप यादव के फॉर्म की चिंता थी। हालाँकि, कुलदीप यादव ने शानदार गेंदबाजी करते हुए बाबर आजम और फखर जमान को आउट किया। उन्होंने लिखा

“इस मैच से पहले कुलदीप यादव के फॉर्म को लेकर चिंता थी लेकिन उसने कमाल की गेंदबाजी की। बाबर को जिस गेंद पर आउट किया, वह शानदार थी।”

Related posts