धोनी के दस्ताने पर मौजूद "बलिदान बैज' किसी नियम को नहीं तोड़ता: ICC

Trending News

Blog Post

क्रिकेट

ICC कर रहा धोनी के साथ नाइंसाफी, किसी भी नियम को नहीं तोड़ता धोनी का बलिदान बैज 

ICC कर रहा धोनी के साथ नाइंसाफी, किसी भी नियम को नहीं तोड़ता धोनी का बलिदान बैज

5 जून को वर्ल्ड कप 2019 में भारतीय टीम ने अपने पहले मैच में साउथ अफ्रीका के खिलाफ एक आसान जीत दर्ज की थी। इस मैच में धोनी ने अपने कीपिंग ग्लव्स में ‘बलिदान बैज’ लगाया था। धोनी के साउथ अफ्रीका के खिलाफ अपने ग्लव्स में ‘बलिदान बैज’ लगाकर खेलने की शिकायत पाकिस्तान ने आईसीसी से कर दी थी। तब से धोनी के बलिदान बैज को लेकर बीसीसीआई और आईसीसी आमने-सामने आ गई है ।

बीसीसीआई मांग रही है अनुमति

ICC कर रहा धोनी के साथ नाइंसाफी, किसी भी नियम को नहीं तोड़ता धोनी का बलिदान बैज 1

एक तरफ जहां आईसीसी धोनी को बलिदान बैज वाले ग्लव्स पहनकर खेलने देने की अनुमति नहीं दे रही और ग्लव्स से बलिदान बैज हटाने को कह रही तो वहीं दूसरी तरफ बीसीसीआई धोनी के पक्ष में है । इस मामले ने तूल पकड़ लिया है और हर जगह इस बात पर ही वाद-विवाद चल रहा है कि धोनी को बलिदान बैज पहनने की इजाजत दी जानी चाहिए या नहीं दी जानी चाहिए ।

इन हालातों में ‘बलिदान बैज’ पहनकर खेल सकेंगे धोनी

सूत्रों की मानें, तो यदि महेंद्र सिंह धोनी और बीसीसीआई आईसीसी को यह सुनिश्चित कर दें, कि ‘बलिदान बैज’ में कोई राजनीतिक, धार्मिक या नस्लीय संदेश नहीं है, तो आईसीसी इस अनुरोध पर विचार कर सकता है।’

आपको बता दें, इससे पहले बीसीसीआई के COA चीफ विनोद राय ने कहा था कि, ‘हम धोनी के साथ हैं । धोनी के दस्ताने पर जो निशान है, वह किसी धर्म का प्रतीक नहीं है और न ही यह कमर्शियल है। ‘

राजीव शुक्ला ने कहा

‘धोनी ने कुछ भी गलत नहीं किया है। आईसीसी केवल कमर्शियल एनडोर्समेंट के लिए शासन करता है. बीसीसीआई ने इस पर आईसीसी को पत्र लिखकर अच्छा किया है। आईसीसी के किसी नियम ने इसका उल्लंघन नहीं किया।’ वर्ल्ड कप में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ मैच में धोनी ने जो दस्ताने पहने थे, उन पर सेना का बलिदान बैज बना हुआ था। इस पर आईसीसी ने बीसीसीआई से अपील की थी कि वह धोनी को दस्तानों से लोगो हटाने को कहे।

क्या है पूरा मामला

भारतीय टीम जब इस विश्व कप में 5 जून को दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ अपना पहला मैच खेलने उतरी तो भारतीय टीम के पूर्व कप्तान और विकेटकीपर बल्लेबाज महेंद्र सिंह धोनी ने अपने विकेटकीपिंग ग्लव्स में पैरा स्पेशल फोर्सेज को सम्मान देने के लिए उनके ‘बलिदान’ बैज के चिन्ह को लगाया था ।

महेंद्र सिंह धोनी खुद 2011 से पैरा स्पेशल फोर्सेज के मानद रैंक पद से लेफ्टिनेंट कर्नल हैं । इसलिए भारतीय सेना ने उन्हें ये चिन्ह प्रयोग करने की इजाजत दी है । इस चिन्ह का प्रयोग करने की इजाजत पैरा कमांडो की ट्रेनिंग पूरी करने वाले लोगों को ही मिलता है । धोनी के इस कदम की सभी भारतीयों ने सराहना की थी लेकिन आईसीसी ने इसपर आपत्ति जताई है ।

Related posts