आईपीएल 2020 हुआ रद्द तो बीसीसीआई विराट कोहली और रवि शास्त्री समेत कई लोगों को दे सकती है बड़ा झटका 1

चीन से शुरु हुए कोरोना वायरस ने पूरी दुनिया को अपनी चपेट में ले रखा है. इस महामारी के चलते आईपीएल 2020 का भविष्य अधर में लटका हुआ है. 29 मार्च से शुरु होने वाले आईपीएल को बीसीसीआई ने 15 अप्रैल तक स्थगित कर दिया था. मगर कोरोना वायरस महामारी भारत में भी गंभीर रूप ले रही है, ऐसे में अब आईपीएल 2020 के रद्द होने की संभावनाएं नजर आ रही हैं.

खिलाड़ियों की सैलरी में हो सकती है कटौती

आईपीएल 2020

आईपीएल 2020 का भविष्य कोरोना वायरस के चलते तय नहीं हो पा रहा है. इसके चलते बीसीसीआई को भारी नुकसान से गुजरना पड़ेगा. अब बीसीसीआई के अधिकारी ने मुंबई रिपोर्ट्स से बात करते हुए बताया,

अगर संस्थान को फाइनेंशियल रूप से नुकसान होता है तो निश्चित रूप से इसके कर्मचारियों की सैलरी पर भी प्रभाव पड़ेगा. ऐसे में उनके पैसे कटने की पूरी-पूरी संभावना है.

आपको बता दें, बीसीसीआई अपनी कमाई का 26 फीसदी हिस्सा खिलाड़ियों को देती है. अंतरराष्ट्रीय स्तर के खिलाड़ियों को 13 फीसदी, जबकि इतने ही प्रतिशत की राशि घरेलू क्रिकेटरों में बांटी जाती है.

खिलाड़ियों को मोटी सैलरी देती है बीसीसीआई

आईपीएल 2020

आईपीएल 2020 हुआ रद्द तो बीसीसीआई विराट कोहली और रवि शास्त्री समेत कई लोगों को दे सकती है बड़ा झटका 2

दुनिया का सबसे अमीर बोर्ड होने के नाते बीसीसीआई अपने खिलाड़ियों को मोटी सैलरी देता है. ए प्लस विराट कोहली, रोहित शर्मा, जसप्रीत बुमराह क बोर्ड 7-7 करोड़ रुपये देता है. तो वहीं ए कैटेगरी वाले खिलाड़ियों को 5 करोड़, बी कैटेगरी वालों को 3 करोड़ रुपये, जबकि सी कैटेगरी वालों को 1-1 करोड़ रुपये सालाना मिलते हैं. इतना ही नहीं मुख्य कोच रवि शास्त्री की सैलरी 9 करोड़ रुपये से ज्यादा है.

अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ियों के कॉन्ट्रैक्ट के अलावा टेस्ट मैच फीस के रूप में 15 लाख, वनडे इंटरनेशनल के लिए 7 लाख और टी20 अंतरराष्ट्रीय मैच के लिए 5 लाख रुपये मैच फीस के रूप में मिलते हैं. घरेलू स्तर पर रणजी मैच के एक दिन के लिए 35 हजार रुपये प्रति दिन, वनडे मैचों के लिए 50 हजार रुपये और इतनी ही रकम टी20 मैच के लिए मैच फीस के रूप में दी जाती है.

कोरोना वायरस से भारत की स्थिति गंभीर

आईपीएल 2020

इटली, ब्रिटेन, अमेरिका, रूस जैसे तमाम विकसित देशों में कोरोना वायरस ने बुरी तरह लोगों की जान ली है. भारत में भी स्थिति दिन-प्रतिदिन चिंताजनक हो रही है. संपूर्ण भारत में लॉकडाउन के बावजूद भारत में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या तेजी से बढ़ रही है.

अब तक भारत में लगभग 4500 लोग इस महामारी की चपेट में आ चुके हैं और 125 से अधिक लोग जान भी गंवा चुके हैं. इस बढ़ती संख्या के चलते अब सरकार लॉकडाउन को आगे बढ़ाने पर भी विचार कर रही है.