चेन्नई सुपर किंग्स
Prev1 of 4
Use your ← → (arrow) keys to browse

आईपीएल 2020 के लिए खिलाड़ियों की नीलामी पूरी हो चुकी है और इसी के साथ सभी 8 टीमों का स्क्वाड तय हो चुका है. सभी टीमें अभी से ही आईपीएल 2020 का खिताब जीतने के लिए योजना बनाने लगे हैं. फैंस को अभी भी सबसे ज्यादा उम्मीदें अपनी फेवरेट टीम चेन्नई सुपरकिंग्स से हैं.

इसका सबसे बड़ा कारण शायद टीम के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी हैं जो हर बार अपनी टीम को प्लेऑफ में ले जाते हैं. आईपीएल इतिहास में ऐसा कभी नहीं हुआ है कि चेन्नई ने आईपीएल के प्लेऑफ में अपनी जगह सुनिश्चित ना की हो, लेकिन इस बार टीम में कुछ ऐसी कमियां अभी से नजर आ रही हैं जो तीन बार की चैंपियन चेन्नई सुपर किंग को आईपीएल 2020 के प्लेऑफ में जाने के चांसेज बहुत कम हैं.

आज हम आपको कुछ ऐसे 4 कारण बताने वाले हैं जिसके बाद शायद आप भी कहेंगे कि इस बार चेन्नई का प्लेऑफ में पहुंचना बहुत मुश्किल है.

4). उम्रदराज  का अधिक होना

चेन्नई सुपर किंग्स

IPL 2020 : 4 कारण क्यों हर बार आईपीएल प्ले ऑफ़ में जगह बनाने वाली CSK इस बार हो सकती है बाहर 1

कहते हैं क्रिकेट में जितना जरूरी अच्छी बल्लेबाजी तथा गेंदबाजी करना है उससे भी कहीं ज्यादा जरूरी अच्छी फील्डिंग करना हैं क्योंकि कई बार अच्छी फील्डिंग से मैच का परिणाम बदल जाता है और यह हम कई बार देख भी चुके हैं. चेन्नई सुपरकिंग्स में खिलाड़ियों की औसत आयु 32 साल है. धोनी से लेकर सुरेश रैना, हरभजन सिंह, शेन वॉटसन और ड्वेन ब्रावो सभी उम्रदराज खिलाड़ियों की श्रेणी में आते हैं. हालांकि इन्हीं दिग्गजों के बूते टीम ने पिछली बार का फ़ाइनल का रास्ता तय किया था.

लेकिन हमें कई मिस फील्डिंग भी देखने को मिली थी. क्योंकी भले ही टीम में अनुभवी खिलाड़ियों की भरमार हो, मगर यह कटु सत्य है कि उम्र के इस पड़ाव में लाजवाब फील्डिंग करना बहुत मुश्किल है बशर्ते आप धोनी अथवा ब्रावो हो. युवा खिलाड़ियों की टीम में कमी एक बड़ी कमजोरी बनकर उभर सकती है. इसी कारण यह सबसे कारण बन सकता है टीम का प्लेऑफ से बाहर होने का.

Prev1 of 4
Use your ← → (arrow) keys to browse