BCCI

इंडियन प्रीमियर लीग गर्वनिंग काउंसिल और बोर्ड आफ कंट्रोल फॅार क्रिकेट इन इंडिया की ओर से बुलाई गई आपातकालीन बैठक में आईपीएल को तत्काल प्रभाव से सस्पेंड करने का फैसला किया गया. क्योंकि बीसीसीआई (BCCI) की ओर से किसी भी खिलाड़ी, स्टाफ या किसी अन्य सदस्य की सुरक्षा के साथ खिलवाड़ नहीं करना था.

बता दें कि कोरोना काल में खेला जाने वाला ये दूसरा सीजना था. पहले सीजन का आयोजन यूएई में किया गया था जो पूर्ण रुप से सफल हो गया था. हालांकि इस दौरान बीसीसीआई (BCCI) को इसके लिए काफी रुपये खर्च करने पड़े थे. लेकिन पूरा टूर्नामेंट सुरक्षा के लिहाज से सफल हो गया था.

आईपीएल बीच सत्र में ही करना पड़ा सस्पेंड

BCCI

भारत में कोरोना की दूसरी लहर को देखते हुए आईपीएल के चेयरमैन बृजेश पटेल ने आईपीएल का 14 वां सीजन शुरु होने से पहले बीसीसीआई (BCCI) के सामने प्रस्ताव रखा था कि इस बार के आयोजन को भी यूएई में करवाया जाए. लेकिन बीसीसीआई (BCCI) की ओर से इस प्रस्ताव को खारिज कर दिया था.

और इसका आयोजन भारत में ही करवाने के लिए कहा था. ऐसे में आईपीएल को बीच में ही सस्पेंड करना पड़ा. बीसीसीआई (BCCI) ने यूएई में आईपीएल का आयोजन करवाने के लिए 98.5 करोड़ रुपये खर्च किए थे.

100 करोड़ बचाने के चक्कर में गंवाए 3500 करोड़

IPL 2021: 100 करोड़ बचाने के चक्कर में BCCI ने गंवा दिए 3500 करोड़ 1

गौरतलब है कि जितना पैसा ईसीबी ने आईपीएल होस्ट करने के लिए बीसीसीआई से फीस ली थी, वो भारत में होने वाले आईपीएल के लिए स्टेट एसोसिएशन द्वारा ली जाने वाली फीस से दोगुनी थी. आईपीएल 2019 में भारत में स्टेट एसोसिएशन मैच की होस्टिंग के लिए 50 लाख रुपये फीस लेती थी. आईपीएल 2020 में ये दोगुनी हो गई. इस दौरान एक मैच की फीस 1 करोड़ रुपये हो गई.

इतने खर्चे के साथ ही बीसीसीआई की ओर से आईपीएल 2020 में सिर्फ कोविड टेस्ट करवाने के लिए 10 करोड़ रुपये खर्च किए थे. इसके लिए उन्होंने यूएई की वीपीएस हेल्थकेयर को हायर किया था, जो आनसाइट कोविड के टेस्ट और मेडिकल सुविधा प्रदान कराती थी. जानकारी के अनुसार यूएई में आईपीएल के दौरान कुल 20 हजार कोविड टेस्ट हुए थे, जिनका खर्च 9.49 करोड़ रुपये आया था.

यूएई में होता आयोजन तो आज रद्द ना करना पड़ता आईपीएल

IPL 2021: 100 करोड़ बचाने के चक्कर में BCCI ने गंवा दिए 3500 करोड़ 2

इसके साथ ही यूके की कंपनी रेस्ट्राटा साल्यूशंज को आईपीएल 2020 में बायो बबल की जिम्मेदारी दी गई थी, जिसकी कीमत 2.89 करोड़ रुपये थे. अगर सभी बातों को छोड़ दिया जाए तो आईपीएल के एक सीजन से लगभग बीसीसीआई के पास 7 हजार करोड़ रुपये आता है. लेकिन इस बार क्योंकि आईपीएल को बीच में ही स्थगित करना पड़ा इसलिए बीसीसीआई को 3500 करोड़ रुपये का नुकसान हो गया.